पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

हंगामा:कम्यूनिटी हेल्थ ऑफिसर की ट्रेनिंग कर रहे छात्रों का बकाया नहीं देने पर हंगामा

पूर्णिया10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
जिला स्वास्थ्य समिति कार्यालय के सामने प्रदर्शन करते प्रशिक्षणार्थी।
  • प्रत्येक माह रहने-खाने के लिए 10 हजार रुपये हर माह मिलते हैं
  • स्टडी मैटेरियल के लिए 5 से 10 % की राशि मुहैया कराने की व्यवस्था

स्टेट हेल्थ सोसायटी के कम्यूनिटी हेल्थ ऑफिसर की ट्रेनिंग कर रहे छात्रों को स्टाइपेंड नहीं मिलने पर हंगामा किया। छात्रों ने सिविल सर्जन को आवेदन देकर बाकी बकाये पैसे की मांग की। शनिवार को बिहार स्टेट हेल्थ सोसायटी के सौजन्य से 52 छात्र छात्रों का कम्यूनिटी हेल्थ ऑफिसर की ट्रेनिंग सदर अस्पताल में की जा रही है। ट्रेनिंग के दौरान प्रत्येक छात्रों को प्रत्येक माह रहने खाने के लिए 10 हजार, ट्रांसपोर्टिंग के लिए 3 हजार, स्टडी मैटेरियल 5 से 10 प्रतिशत की राशि मुहैया करानी है, जो अब तक दो महीने की राशि अभी मिली है शेष राशि के लिए छात्रों ने जिला स्वास्थ्य समिति के कार्यालय के समक्ष हंगामा किया। जिसे जिला स्वास्थ्य समिति के अधिकारियों के द्वारा समझा बुझा कर शांत कराया गया। छात्रों ने बताया कि सदर अस्पताल में सत्र जनवरी से जून तक 50 दिनों की ट्रेनिंग चल रही है जो 10 अगस्त को समाप्त होगी। इस ट्रेनिंग के दौरान सभी छात्रों (जो पहले से संविदा कर्मी हैं या कहीं कार्य कर रहे हैं उन्हें छोड़कर) प्रत्येक माह रहने खाने, जाने आने के लिए सरकार के द्वारा राशि तय की गई है। जो हमलोगों को नहीं दी जा रही है। जबकि कई ट्रेनिंग सेंटरों पर इसका लाभ भी मिल चुका है। अब तक जुलाई 31 को दो महीने की राशि 13 हजार की दर से 26 हजार मात्र दी गई। जब जिला हेल्थ सोसाइटी के डीएचएस सत्यम से बकाया राशि की मांग की गई तो बताया कि फंड में अभी राशि नहीं है। छात्रों ने कहा कि कभी कहा जाता है कि ऑनलाइन क्लास किया है तो उसका क्या प्रूफ है। राशि आएगी तो दी जाएगी। छात्रों का कहना है कि ट्रेनिंग के लिए राज्य स्वास्थ्य समिति बिहार द्वारा पूरा पैसा जिला स्वास्थ्य समिति को भेजा जा चुका है। बिहार के कई ट्रेनिंग सेंटरों में ट्रेनर्स को राशि मिल चुकी है। छात्रों ने बताया कि इग्नू के द्वारा यह ट्रेनिंग की गई है। इसमें यदि कोई भी प्रशिक्षणार्थी यदि 3 वर्ष से पूर्व सेवाएं छोड़कर जाता है तो उसे बांड के रूप में 103000 जमा करवाने पड़ेंगे। छात्रों को लॉकडाउन होने की वजह से काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। छात्रों ने बताया कि घर से जो कुछ पैसा लाए थे वह खर्च हो गया। जिस कारण काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। छात्रों ने आरोप लगाते हुए कहा कि जिला स्वास्थ्य समिति शेष पैसा देना नहीं चाहती एवं (सीएचओ) को गुमराह करने की कोशिश कर रही है। जिला स्वास्थ्य समिति के इस रवैये एवं अपने भविष्य को अंधकार में देखकर सभी प्रशिक्षणार्थी निराश हैं एवं अपनी नौकरी से इस्तीफा देने को मजबूर हो गए हैं।

भुगतान को विभाग से मांगा गया दिशानिर्देश
सीएचओ की ट्रेनिंग 6 माह सदर अस्पताल में ही होनी है। जिसमें दो महीने की ट्रेनिंग हुई उसके बाद लॉकडाउन हो गया। जिस कारण छात्रों ने ऑनलाइन ट्रेनिंग की है। जिसमें 2 महीने की स्टाइपेन के साथ ट्रैवलिंग की राशि दी गई है। शेष 4 महीने ऑनलाइन ट्रेनिंग की अवधि की ट्रैवलिंग की राशि कैसे दी जाए। इसके लिए विभाग को लिखा गया है। निर्देश आने पर भुगतान किया जाएगा। स्टाइपेन की राशि की प्रक्रिया पूरी हो चुकी है जब छात्र लेने को तैयार हो जाए उन्हें दे दी जाएगी।
उमेश शर्मा, सिविल सर्जन, पूर्णिया

0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव- धार्मिक संस्थाओं में सेवा संबंधी कार्यों में आपका महत्वपूर्ण योगदान रहेगा। कहीं से मन मुताबिक पेमेंट आने से राहत महसूस होगी। सामाजिक दायरा बढ़ेगा और कई प्रकार की गतिविधियों में आज व्यस्तता बनी...

और पढ़ें