जनाक्रोश:सरकारी दर पर पर्याप्त खाद नहीं देने पर 6 घंटे एनएच जाम

राघोपुर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
राघोपुर में खाद को लेकर एनएच 106 सड़क जाम कर प्रदर्शन करते किसान - Dainik Bhaskar
राघोपुर में खाद को लेकर एनएच 106 सड़क जाम कर प्रदर्शन करते किसान
  • प्रखंड कार्यालय के पास खाद उपलब्ध कराने की मांग को लेकर किसानों ने दो जगह एनएच-106 पर किया प्रदर्शन
  • आक्रोशित किसानों ने प्रखंड कार्यालय के मुख्य द्वार को बंद कर एनएच-106 सहित प्रखंड मुख्यालय जाने वाले सभी रास्ते को बंद कर दिया
  • रबी फसल लगाने के लिए खाद खरीद रहे किसान

खेतों में रबी फसल लगाने के लिए खाद को लेकर परेशान किसानों ने राघोपुर पहुंचकर प्रखंड कार्यालय परिसर के समीप एनएच 106 को घंटों जाम कर सरकार विरोधी नारा लगाते हुए विरोध प्रदर्शन किया। इस दौरान आक्रोशित किसानों ने प्रखंड मुख्यालय के मुख्य द्वार को बंद कर एनएच 106 सहित प्रखंड मुख्यालय जाने वाले सभी रास्ते को बंद कर आवागमन पूरी तरह बाधित कर दिया था। आक्रोशित किसानों का कहना था कि कई दिनों से खाद को लेकर किसान परेशान हैं। लेकिन प्रशासन इस ओर ध्यान नहीं दे रहा है। दो दिन पूर्व जिला प्रशासन द्वारा मीडिया के माध्यम से लोगों को सूचित किया गया कि जिले भर में खाद की कोई कमी नहीं है। हर दुकानों पर खाद की पर्याप्त उपलब्धता है। समस्या होने पर अधिकारी को सूचित करने पर समस्या का समाधान किया जाएगा। फिर भी किसानों की परेशानी समाप्त नहीं हुई। बाजार की दुकानों में ऊंची दाम सरकारी मूल्य का दोगुना मूल्य चुकाकर किसानों को खाद उपलब्ध हो रही है।

फोन तक नहीं उठा रहे प्रखंड कृषि पदाधिकारी और डीएओ
राघोपुर बीएओ सहित जिला कृषि पदाधिकारी लोगों का फोन रिसीव नहीं करते आखिर किसान कहा जाए। किसानों ने बताया कि विभाग द्वारा राघोपुर बिस्कोमान को बुधवार की संध्या ही खाद उपलब्ध कराया गया है। लेकिन बिस्कोमान मैनेजर खाद की कालाबाजारी में लगे हुए हैं। बताया कि गुरुवार को तीन बजे सुबह से ही किसान खाद लेने के लिए लाइन में खड़े हैं। लोगों को सूचना दिया गया कि 200 किसानों का आधार कार्ड पूर्व से जमा है। उसे पहले खाद दिया जाएगा। बिस्कोमान मैनेजर द्वारा कालाबाजारी के लिए पूर्व से ही 200 लोगों का आधार जमा लेकर रख लिया गया है। उसी को लेकर आक्रोशित किसानों ने सड़क पर प्रदर्शन करना शुरू कर दिया।

दुकान में खाद होने के बाद भी नहीं देते दुकानदार

किसानों ने बताया कि बाजार में हर उर्वरक दुकान पर खाद उपलब्ध है। लेकिन उस पर अधिकारियों की नजर नहीं रहने के कारण उर्वरक विक्रेता खाद उपलब्ध नहीं रहने की बात कह कर ऊंची कीमत पर किसानों को खाद बेच रहे हैं। सही दाम पर मांगने पर खाद नहीं होने की बात कह दी जाती है। प्रखंड कृषि पदाधिकारी अपने कार्यालय में भी नहीं मिलते हैं। आखिर किसान कहां और किसके पास अपनी समस्या सुनाए। जाम के तीन घंटे बाद राघोपुर थानाध्यक्ष रजनीश केसरी अपने पुलिस बल के साथ जाम स्थल पर पहुंचे एवं किसानों को समझाने का प्रयास किया। उसके बाद राघोपुर आरडीओ विनीत कुमार, बीएओ अमरेंद्र कुमार भी जाम स्थल पर पहुंचकर आक्रोशित किसानों को समझा बुझाकर जाम हटाने का प्रयास किया। लेकिन किसान अपने मांग पर अड़े थे। कहा कि जब तक हमलोगों को खाद उपलब्ध नहीं कराया जाएगा, जाम जारी रहेगा। प्रखंड क्षेत्र के 10 प्रतिशत किसान भी अपनी फसल नहीं लगा पाएंगे। किसानों को बताया गया कि जिला से अभी 880 बोरी डीएपी और तीन सौ बोरी मिक्सचर खाद प्राप्त हुआ है। सभी किसान लाइन में लगकर अपना-अपना आधार जमा कर दें। जितना खाद उपलब्ध है, सभी में बांट दिया जाएगा। फिर करीब 6 घंटे बाद सड़क जाम समाप्त हुआ।

खाद के लिए कतार में लगे किसान।
खाद के लिए कतार में लगे किसान।

सुबह 4 बजे से व्यापार मंडल के सामने खड़े रहे तब मिला एक बोरा खाद, वो भी जरूरत के अनुरूप नहीं

पिपरा | रबी मौसम की फसलों की बुआई के लिए आवश्यक डीएपी खाद की किल्लत से आक्रोशित किसानों ने गुरुवार की सुबह पिपरा व्यापार मंडल कार्यालय सह गोदाम के सामने एनएच 106 को जाम कर दिया। जहां स्थानीय लोगों एवं वस्तु स्थिति को समझने वाले किसानों द्वारा समझाने-बुझाने के बाद आखिरकार 8 बजे सुबह में लगी जाम 9 बजे सुबह में 1 घंटे के बाद टूटी। इस बीच सुभाष चौक के समीप एनएच 106 पर लगे जाम से गाड़ियों की लंबी कतार लग गई। पूरी तरह सड़क को क्लीयर करने में 2 घंटे से अधिक का समय लग गया। किसानों का कहना था कि गेहूं एवं मकई की खेती के लिए उनके खेत की जुताई हो चुकी है। लेकिन डीएपी खाद के अभाव में बुआई नहीं हो पा रही है। किसानों का यह भी कहना था कि 4 बजे सुबह से वे व्यापार मंडल के सामने लाइन लगते हैं। तब जाकर उनको एक बैग डीएपी और यूरिया मिल पाती है। एक तो उनका बहुमूल्य समय लाइन में बीत रहा है, ऊपर से उन्हें समुचित मात्रा में खाद भी नहीं दी जा रही है। सचमुच व्यापार मंडल पिपरा के सामने किसानों की लंबी लाइन अहले सुबह से देर रात तक देखी जा रही है। जिसमें महिलाओं की बड़ी संख्या भी शामिल है। पिपरा व्यापार मंडल के अध्यक्ष प्रदीप कुमार ने बताया कि खाद की किल्लत के कारण पिपरा प्रखंड के सीमावर्ती प्रखंडों के किसान भी यहां खाद के लिए लाइन लगा रहे हैं। मांग के अनुरूप इफको द्वारा खाद उपलब्ध नहीं कराया जा रहा है। इसलिए किसानों को भी उनकी मांग के अनुसार खाद देने में वे असमर्थ हैं। अभी प्रत्येक आधार कार्ड पर एक बैग यूरिया एवं एक बैग डीएपी या एपीएस दिया जा रहा है। बीएओ समीर कुमार ने कहा कि वास्तव में डीएपी खाद की किल्लत पूरे जिले में है। मधेपुरा रैक पॉइंट पर रैक लग गई है। जिसमें उत्तम डीएपी की 1245 मिट्रिक टन खाद है। शुक्रवार तक पिपरा प्रखंड को एक सौ मीट्रिक टन डीएपी उपलब्ध करा दिया जाएगा।

खबरें और भी हैं...