पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

शिथिल सिस्टम:कोरोना मरीज के शव को परिजनों से कराया रैप, सुरक्षा के लिए पीपीई किट भी नहीं दिया

राघोपुर6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
राघोपुर रेफरल अस्पताल में कोरोना संक्रमण से मृत व्यक्ति को पीपीटी किट पहनाते परिजन - Dainik Bhaskar
राघोपुर रेफरल अस्पताल में कोरोना संक्रमण से मृत व्यक्ति को पीपीटी किट पहनाते परिजन
  • कोरोना से मरने वालों के परिजनों की जिंदगी से खेल रहे राघोपुर रेफरल अस्पताल और त्रिवेणीगंज अनुमंडलीय अस्पताल के डॉक्टर और कर्मी, ऐसे में तो संक्रमण और बढ़ेगा
  • परमानंदपुर के वार्ड-17 के अररहा निवासी कलानंद को तीन दिनों से था सर्दी-बुखार

रेफरल अस्पताल में रविवार को जांच के बाद कोरोना के एक मरीज ने दम तोड़ दिया। अस्पताल प्रबंधन ने परिजन को पीपीटी किट देकर शव को पहनाने के लिए कहा और बिना पीपीई किट पहने परिजन ने शव को पीपीई किट पहनाया। जबकि कोरोना से मौत के बाद शव को पीपीटी किट पहनाने वाले व्यक्ति को पीपीई किट पहनना है, लेकिन अस्पताल के डाॅक्टर और कर्मी परिजन को किट पहनाने के लिए कह दिए। मृतक के परिजन के लिए अस्पताल प्रबंधन द्वारा पीपीई किट नहीं दी गई। इधर, राघोपुर के बीएचएम मुकेश कुमार ने बताया कि परमानंदपुर के वार्ड-17 के अररहा गांव निवासी 53 वर्षीय कलानंद उर्फ संजीव सिंह रविवार को परिजन के साथ इलाज कराने आए थे। जांच में वह कोरोना पॉजिटिव निकले। जांच के एक घंटा बाद दवा लेने के दौरान वह जमीन पर गिर गए और उनकी मौत हो गई। परिजनों ने बताया कि कलानंद को तीन दिनों से सर्दी-खांसी और बुखार था।

गांव में पहले उनका इलाज कराया गया, लेकिन तबियत ज्यादा बिगड़ने पर उसे सरकारी अस्पताल इलाज के लिए लाया गया था। जहां पहले कोरोना जांच कराई गई। जांच में पॉजिटिव रिपोर्ट आने के कुछ देर बाद उसकी मौत हो गई। इस बीच अस्पताल परिसर में मौजूद दलाल सक्रिय हो गया। परिजनों ने बताया कि एक व्यक्ति उसके पास पहुंचा और कहा कि आप लोग शव को पीपीई किट पहना दीजिए। उसके बाद शव को एंबुलेंस से अररहा पहुंचाने के लिए 25 हजार रुपए देना होगा। शव को निजी एंबुलेंस से घर पहुंचाया जाएगा। प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ. दीपनारायण राम ने बताया कि उक्त व्यक्ति बेहोशी अवस्था में आया था, इसलिए पहले कोविड जांच कराने पर रिपोर्ट पॉजिटिव आई। उसके बाद इलाज शुरू किया गया था। इसी बीच मरीज की मौत हो गई। शव वाहन से घर भेजा गया है। उन्होंने कहा कि परिजनों को 6 किट दी गई थी।

2 दिनों में 710 नए मरीज मिले, तीन की हुई मौत

पिछले दो दिनों में कोरोना के 710 नए मरीज मिले। इनमें शनिवार को 411 और रविवार को 290 केस आए। वहीं, 48 घंटे में तीन लोगों की मौत हो गई। शनिवार की सुबह 4 बजे सदर प्रखंड के बरैल वार्ड-5 में 72 वर्षीय विपिन सिंह का कोरोना के कारण निधन हो गया। परिजन ने बताया कि 5 दिन पहले पूरे परिवार की कोरोना जांच हुई, जिसमें विपिन समेत परिवार के अन्य सदस्य पॉजिटिव निकले। सबका घर में ही इलाज हो रहा था। शनिवार की सुबह विपिन की तबियत बिगड़ने के बाद परिजन ने एंबुलेंस मंगवाई और परिजन एंबुलेंस में ले जाने के लिए उठाने के लिए आए उन्होंने दम तोड़ दिया। जिले में कोरोना से 30 लोगों की मौत हो चुकी है। इधर, दो दिनों में मिले नए मरीजों में सबसे अधिक सदर प्रखंड से 150 मामले सामने अाए। किशनपुर-15, सरायगढ़-30, निर्मली-44, मरौना-33, पिपरा-55, त्रिवेणीगंज-67, राघोपुर-94, छातापुर-78, प्रतापगंज-55 बसंतपुर-63 मरीज मिले हैं। अन्य जिलों से सुपौल आए 40 लोग जांच में संक्रमित पाए गए। जिले में एक्टिव मरीजों की संख्या 3297 है। अब तक 9941 मरीज मिले हैं। इनमें 6614 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं। 1559 लोगों की जांच रिपोर्ट पेडिंग है। सबसे अधिक मरीज जिला मुख्यालय में मिल रहे हैं।

किट नहीं रहने से कोरोना जांच की रफ्तार धीमी, सीएस का इनकार
कई केंद्रों पर जांच किट नहीं होने से कोरोना जांच की रफ्तार धीमी पड़ रही है। शुक्रवार व शनिवार को किसनपुर में लोग बिना जांच कराए लौट गए। स्वास्थ्य प्रबंधक सुजीत कुमार ने बताया था कि किट के अभाव में जांच नहीं हो सकी। जबकि सिविल सर्जन ने जांच किट की कमी से इनकार कर रहे हैं।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज दिन भर व्यस्तता बनी रहेगी। पिछले कुछ समय से आप जिस कार्य को लेकर प्रयासरत थे, उससे संबंधित लाभ प्राप्त होगा। फाइनेंस से संबंधित लिए गए महत्वपूर्ण निर्णय के सकारात्मक परिणाम सामने आएंगे। न...

    और पढ़ें