संदेहास्पद स्थिति में मौत:सास के श्राद्ध से लौट रहे व्यक्ति ने घर लौटने के दौरान सांस लेने में दिक्कत होने पर बस में तोड़ा दम

राघोपुर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सिमराही बाजार में खड़ी इसी बस में संदेहास्पद स्थिति में एक की हुई मौत - Dainik Bhaskar
सिमराही बाजार में खड़ी इसी बस में संदेहास्पद स्थिति में एक की हुई मौत
  • कटिहार से छपरा के डुमर्शन जा रहे थे योगी लाल

पूर्णिया से मुजफ्फरपुर जा रही अमर ज्योति बस में मंगलवार को बुखार, सर्दी व खांसी से पीड़ित 50 वर्षीय योगी लाल साह ने राघोपुर में बस में ही दम तोड़ दिया। मरीज को सांस लेने में दिक्कत व बार-बार दम फूलते व खांसते देख पहले से सवार अन्य यात्री घबराए थे। सिमराही बाजार में बस रुकी को व्यक्ति की संदेहास्पद स्थिति में मौत हो गई। बस में उन्हें दम तोड़ते देख अन्य यात्री भाग निकले।

2 घंटे तक एनएच-106 किनारे सिमराही बाजार स्थित खड़ी भंडार के पास बस रुकी रही। वहां अफरा-तफरी मची रही। रेफरल अस्पताल में खड़ी एंबुलेंस के चालक ने सिमराही से मुजफ्फरपुर शव पहुंचाने के लिए 20 हजार रुपए मांगे। इससे परिजन भी काफी परेशान थे। राघोपुर थानाध्यक्ष रजनीश केसरी के हस्तक्षेप के बाद शव को मुजफ्फरपुर तक पहुंचाने को तैयार हुए। लगभग ढाई घंटे बाद परिजन शव के साथ बस से मुजफ्फरपुर के लिए निकले। योगी लाल के साथ उनकी पत्नी संजू देवी व तीन बच्चे भी यात्रा कर रहे थे।

संजू ने बताया कि वह अपने पति व तीन बच्चों के साथ अपनी मां के श्राद्ध कर्म में कटिहार स्थित मायके से लौट रही थी। कटिहार में 2 दिन पूर्व उनके पति को सर्दी, खासी व बुखार आया था। उसके बाद परिवार के साथ पूर्णिया पहुंचे। जहां अमर ज्योति कोच से सभी छपरा के डुमर्शन गांव जा रहे थे। सिमराही बाजार पहुंचने से पहले पति का दम घुटने लगा था। संजू ने बताया कि मुजफ्फरपुर पहुंचने पर वहां घर से गाड़ी आएगी, जिससे पति का शव लेकर घर तक पहुंच जाएंगी।

इधर, राघोपुर के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ. दीपनारायण राम ने बताया कि शव को ले जाने के लिए अस्पताल से एंबुलेंस नहीं दी जाती है। थानाध्यक्ष ने कहा कि बस में यात्री की मौत हुई है, शव को गंतव्य तक पहुंचाने का पहला कर्तव्य बस चालक का है, इसलिए हमने मामले को छोड़ दिया।

खबरें और भी हैं...