पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

हादसा:110 किमी. की स्पीड से चल रही हमसफर एक्सप्रेस के चक्के में लगी आग, धुएं से एसी कोच में अफरा-तफरी

सहरसाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • बर्निंग ट्रेन होने से बच गई सहरसा से नई दिल्ली जा रही क्लोन ट्रेन-02563
  • ब्रेक बाइंडिंग से थर्ड एसी कोच संख्या 16135 सी के नीचे लगी आग, जिसमें 72 लोग सवार थे

मंगलवार की अहले सुबह सहरसा से नई दिल्ली जा रही क्लोन हमसफर एक्सप्रेस ट्रेन संख्या 02563 वर्निंग ट्रेन होने से बच गई। ट्रेन के थ्री एसी कोच के चक्का में आग लग गई। हादसा सहरसा से ट्रेन के खुलने के बाद सोनबर्षा कचहरी और सिमरी बख्तियारपुर स्टेशनों के बीच हुआ। 110 कि.मी. की रफ्तार से चल रही ट्रेन के थ्री एसी कोच के नीचे जैसे ही आग लगी थ्री एसी कोच में धुआं निकलने लगा। धुआं देख बॉगी में बैठे यात्रियों में अफरा-तफरी मच गई। कोच में 72 यात्री बैठे थें। सहरसा जंक्शन से नई दिल्ली के लिए क्लोन हमसफर एक्सप्रेस ट्रेन सुबह 5 बजे खुली थी। इसके बाद लगभग 5:17 बजे जब ट्रेन सोनबर्षा कचहरी स्टेशन पार कर रही थी। तभी स्टेशन पर ट्रेन को हरी लाइट दिखा रहे स्टेशन मास्टर की नजर ट्रेन के आगे लगी थर्ड एसी कोच संख्या 16135 सी के नीचे पड़ी। कोच के दोनों पहियों में आग लगी हुई थी। पहिया जल रहा था। आनन-फानन में स्टेशन मास्टर ने रन थ्रू निकल रही ट्रेन के आगे के ग्रीन सिग्नल को रेड कर दिया गया। रफ्तार अधिक होने के कारण ट्रेन सिगनल पार कर चुकी थी। स्टेशन मास्टर ने तुरंत वॉकी-टॉकी से इसकी सूचना ट्रेन के गार्ड, चालक और कंट्रोल को दी। चालक ने सूचना मिलते ही इमरजेंसी ब्रेक लगाई। इसके बाद ट्रेन ब्लॉग सेक्शन पार कर 23 नंबर गुमटी के पास जाकर रुकी।

8 फायर फाइटिंग से आग पर पाया गया काबू
रेल अधिकारियों के मुताबिक 8 फायर फाइटिंग बॉक्स की मदद से क्लोन ट्रेन में लगी आग पर काबू पाया गया। ट्रेन में लगी आग के बाद लगभग 50 मिनट तक ट्रेन रुकी रही। सबकुछ दुरुस्त होने के बाद ट्रेन को रवाना किया गया। बताया जा रहा है कि जब ट्रेन सहरसा जंक्शन से खुली थी। तभी चलती ट्रेन में ब्रेक वाइंडिंग की वजह से पहिए में आग लग गई थी। जब ट्रेन सोनबर्षा कचहरी स्टेशन पार कर रही थी। ट्रेन की अधिकतम स्पीड 110 प्रतिघंटा की रफ्तार थी।

यात्रियों को सुरक्षित निकाला गया
ट्रेन के चक्के में लगी आग के कारण कोच में धुआं भर गया था। जिससे यात्रियों के बीच अफरा-तफरी मच गई। ट्रेन के रुकने के बाद कोच से सभी यात्रियों को सुरक्षित नीचे उतारा गया। इसके बाद कोच के अंदर लगे फायर फाइटिंग बॉक्स की मदद से आग पर काबू पाया गया।

स्टेशन मास्टर अजीत ने निभाई बड़ी भूमिका
सोनवर्षा कचहरी रेलवे स्टेशन मास्टर अजीत पासवान की सूझबूझ से क्लोन ट्रेन जलने से बच गई। स्टेशन मास्टर अजीत और धर्म कांटा संचालक धीरज कुमार ने तत्परता नहीं दिखाई होती तो ट्रेन आग की लपटों में समा गई होती। हालांकि सोनबर्षा कचहरी स्टेशन से जब ट्रेन रन थ्रू सिमरी बख्तियारपुर के लिए निकल रही थी। तब आगे का सिग्नल ग्रीन था। आनन-फानन में रेड किया गया और आगे सभी गेटमैन को ट्रेन रोकने के लिए लाल झंडा दिखाने के लिए निर्देश दिए गए।

जांच के आदेश दिए हैं
ब्रेक बाइंडिंग से आग लगती है। जांच के आदेश दे दिए हैं। जांच रिपोर्ट आने के बाद कार्रवाई होगी।
-सरस्वतीचंद्र, समस्तीपुर रेल मंडल सीनियर डीसीएम

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- घर के बड़े बुजुर्गों की देखभाल व उनका मान-सम्मान करना, आपके भाग्य में वृद्धि करेगा। राजनीतिक संपर्क आपके लिए शुभ अवसर प्रदान करेंगे। आज का दिन विशेष तौर पर महिलाओं के लिए बहुत ही शुभ है। उनकी ...

और पढ़ें