पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

शहर की डर्टी पिक्चर:रोज 60 टन फेंका जाता कचरा, 5 दिन में 300 सौ टन कूड़ा सड़कों पर बिखड़ा

सहरसा10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
धर्मशाला रोड में आईसीआईसीआई बैंक के पास गंदगी। - Dainik Bhaskar
धर्मशाला रोड में आईसीआईसीआई बैंक के पास गंदगी।
  • आठ सितंबर से 11 सूत्री मांगों को ले सफाईकर्मी अनिश्चतकालिन हड़ताल पर, नहीं उठ रहा कूड़ा

8 सितंबर से राज्यव्यापी हड़ताल पर गए सफाई कर्मियों के कारण शहर के प्रमुख चौक-चौराहे सहित प्रमुख बाजारों की स्थिति नारकीय हो गई है। शहर के हर प्रमुख सड़कों पर जहां कचरे बिखरे पड़े हैं। पांच दिनों से सड़क किनारे फेंके गए कचरे के सड़ने से उठ रही दुर्गंध से आसपास के घरों और दुकानदारों को काफी परेशानी हो रही हैं। लोग बिना नाक पर पट्टी लगाए घर और दुकान से बाहर भी नहीं निकल पा रहे हैं। जबकि पांचवे दिन भी सरकार द्वारा सफाई कर्मियों से कोई सकारात्मक वार्ता नहीं हुई है। ऐसे में शहर के प्रतिदिन निकलने वाले लगभग 60 टन कचरे अब लोगों को मुश्किल में डालने के लिए तैयार है। पिछले पांच दिनों से लगभग 300 टन कचरा शहर के विभिन्न चौक-चैराहे और प्रमुख सड़कों पर फेंका गया है। जिससे कई संक्रामक रोगों से लोग पीड़ित हो सकते हैं। जिससे बचाने के लिए नगर परिषद द्वारा कोई वैकल्पिक व्यवस्था भी नहीं की जा रही है। जिससे कचरों के अंबार धीरे-धीरे और बढ़ता ही जा रहा है। इसके अलावे बारिश का जलजमाव भी अभी तक कई सड़कों से हटा नहीं है। जिससे लोगों की समस्या और बढ़ गई है।

शंकर चौक पर जमा कचरे का ढेर, जो सड़कर बदबू दे रहा है।
शंकर चौक पर जमा कचरे का ढेर, जो सड़कर बदबू दे रहा है।

शहरी क्षेत्र में 10 दिन से जलजमाव है बरकरार

शहरी क्षेत्र में जलजमाव अभी तक बरकरार है। 2 सितंबर को बारिश हुई थी। जिसके बाद जलजमाव जो हुआ वह अब तक खत्म नहीं हुआ। 10 दिन में 2 से 3 इंच पानी कम हुआ है लेकिन परेशानी अभी भी है। शहरी क्षेत्र के वार्ड 8, 9, 16, 32 सहित कई मोहल्ले जलजमाव का केंद्र बना था, लेकिन बीते 2 सितंबर को बारिश से वार्ड 8 एवं 9 के कई अन्य इलाके में भी जलजमाव हो गया।

इधर, हड़ताल पर गए कर्मी काम न करने पर अड़े हुए हैं

11 सूत्री मांग को लेकर बीते बुधवार से बिहार लोकल बॉडीज कर्मचारी संयुक्त संघर्ष मोर्चा एवं बिहार राज्य स्थानीय निकाय कर्मचारी महासंघ के बैनर तले शहरी क्षेत्र के सभी सफाईकर्मी अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले गए हैं। साथ ही राज्य स्तर पर आयोजित अनिश्चितकालीन हड़ताल के पक्ष में काम पर नहीं लौटने की बात पर अड़े है।

जमा हुआ पानी सड़कर अब बदबू देने लगा है

सीपीआई कार्यालय से पश्चिम कई आवासीय परिसर में पानी है। पानी से दुर्गंध आता है। वार्ड आठ में सत्संग मंदिर से पश्चिम का इलाका एवं वार्ड 9 के पश्चिमी भाग में भी जलजमाव है। लगातार मौसम साफ रहने एवं धूप निकलने से 2-3 इंच पानी में कमी आई है। नगर परिषद के कार्यपालक पदाधिकारी आदित्य कुमार ने कहा नगर परिषद कर्मियों के हड़ताल पर चले जाने के कारण जल निकासी का काम बाधित है लेकिन वार्ड पार्षद लोग अपने स्तर से लगे हैं।

इन 11 सूूत्री मांगों को लेकर कर्मी हड़ताल पर गए हैं

जिन दैनिक कर्मियों की सेवा 10 वर्ष या उससे अधिक हैं वे नियमित हो। जब तक नियमितीकरण न हो तब तक न्यूनतम 18 एवं 21 हजार रुपए मासिक वेतन मिले। सातवां वेतन का लाभ मिले। बकाया राशि का भुगतान हो। आउट सोर्सिंग से नियुक्ति बंद हो और वर्तमान में कार्यरत इन कर्मियों को निकाय कर्मी माना जाए। सभी निकायों में ईएसआई, ईपीएफ की सुविधा लागू की जाए। इसकी स्थिति अद्यतन की जाए। सभी निकायों में सामान्य रूप से पेंशन और आजीवन पारिवारिक पेंशन लागू हो आदि कई है मांगें।

खबरें और भी हैं...