पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सहरसा में घर-घर फैल रहा डायरिया:डायरिया से बच्चा व महिला की हुई मौत, एक ही गांव के 12 लोग पीड़ित मिले; प्रभावित गांव में पहुंची मेडिकल टीम

सहरसा6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
डायरिया से पीड़ित महिला। - Dainik Bhaskar
डायरिया से पीड़ित महिला।

सहरसा के सिमरी बख्तियारपुर प्रखंड क्षेत्र के बेलवाड़ा पंचायत स्थित औराही में डायरिया से दो लोगों की मौत की खबर सामने आ रही है। वहीं दर्जनों आक्रांत बताए जा रहे है। इस सूचना के मिलते ही तमाम प्रभावित गांव में मेडिकल टीम पहुंच चुकी है। बता दें कि मृत लोगों में एक बेलवाड़ा पंचायत के औराही महादलित टोला के चार वर्षीय सत्यम सादा है और फुआ दुलारी देवी है। वहीं टोले के दर्जनों लोग इस बीमारी से गंभीर रुप से ग्रस्त है। इधर, स्थानीय लोगों की सूचना एवं प्रशासनिक पहल पर मेडिकल टीम पहुंच कर पीड़ित परिवार का उपचार करना शुरु कर दिया है। फिलहाल स्थिति नियंत्रित में है।

अबतक इस बीमारी का शिकार गांव के गीतो सदा के चार वर्षीय पुत्र सत्यम कुमार एवं दुलार देवी(55) हो चुकी है। सही समय पर उचित उपचार नहीं होने तथा नजदीक में अस्पताल नहीं रहने के कारण जान चली गई। वार्ड नं 07 महादलित टोला में घर-घर दस्त एवं उल्टी करते हुए मरीज मिल जायेंगे। ऐसी बीमारी से अभी गांव के गीता सदा के पत्नी पार्वती देवी(35), रामबहादुर सदा के पत्नी पर्वतीया देवी(60), बिष्णुदेव कुमार(12),विजय सदा के पत्नी रीता देवी(35), संतोष सदा के पत्नी सीता देवी(25), रामदेव सदा के पुत्र दिलीफ़ कुमार(12),गीता सदा के पुत्र नीरज कुमार(12),सिरसा कुमारी(16),रमेश सदा के तीन वर्षीय पुत्र देशराज कुमार तथा बिलास सदा के पुत्र चन्किशोर सदा(22) सहित कुल 300 की आबादी वाले टोले पूरी तरह से प्रभावित हैं।

इस बावत मुखिया प्रतिनिधि बिपिन सिंह की माने तो डायरिया पिछले कई दिनों से इलाके में फैला है। लोग इलाज के अभाव में मजबूरी वश ग्रामीण चिकित्सक के पास इलाज के लिए बाध्य हैं। सहीं उपचार नहीं होने से डायरियाग्रस्त मरीज दम तोड़ देता है। अभी यहां घर घर लोग बीमार है। वहीं मेडिकल टीम एक दिन यहां आकर फिर वापस चली गयी।

इस बावत सिविल सर्जन डॉ अबधेश कुमार ने कहा कि सिमरी बख्तियारपुर के बेलवाडा पंचायत स्थित औराही गांव में डायरिया से दो की मौत और दर्जनों लोगों के पीड़ित होने की सूचना प्राप्त हुई। जिसके आधार पर वहां मेडिकल की टीम भेजी गयी थी। जिसने वहां पहुंचकर पीड़ित लोगों का उपचार शुरू किया। वहां लगभग 12 लोग डायरिया से पीड़ित मिले, जिसका उपचार किया गया। वर्तमान में सभी की स्थिति सामान्य है। सच मायने में देखा जाय तो कोविड महामारी के बाद अब लोग वायरल फीवर व डायरिया जैसे महामारी से जूझने लगा है। मेडिकल टीम एक दिन जाकर खानापूर्ति करके वापस लौट आयी है। जबकि वहां के लोगों को लगातार चिकित्सकीय व्यवस्था की जरूरत है। जब तक स्थिति नियंत्रित नही होता तब तक वहां मेडिकल टीम को कैम्प करना चाहिये।

खबरें और भी हैं...