36 घंटे बाद मासूम का मिली लाश:सहरसा में 3 दिन पहले नाव पटलने से नानी-नाती की हो गई थी मौत, शव मिलने से परिवार में मचा कोहराम

सहरसा3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
शव मिलने के बाद मौके पर जुटे स्थानीय लोग। - Dainik Bhaskar
शव मिलने के बाद मौके पर जुटे स्थानीय लोग।

सहरसा में नाव हादसे में डूबे एक बच्चे की लाश गुरुवार को बरामद हुई है। 3 दिन पहले नवहट्टा प्रखंड के डरहार पंचायत के सितली गांव में नाव पलटने से एक महिला और मासूम की मौत हो गई थी। महिला की लाश हादसे के दूसरे दिन बाद लोगों ने बरामद की थी। वहीं आज बच्चे की भी लाश बरामद कर ली गई है। मृतक रिश्ते में नानी और नाती लगते थे। शव मिलने के बाद परिजनों में कोहराम मच गया। स्थानीय लोगों की मौके पर भीड़ उमड़ पड़ी। घर के लोगों का रो-रोकर बुरा हाल है। मृतकों की पहचान ललिया देवी (70 वर्ष) और नवनीत कुमार (7वर्ष) के रूप में की गई है।

स्थानीय लोगों ने बताया कि नवहट्टा प्रखंड के सितली गांव वार्ड नं -13 में सोमवार को कोसी नदी की उपधारा में नाव पलट गई थी, जिसमें नानी और नाती की डूबने से मौत हो गई थी। SDRF टीम के द्वारा खोजबीन में की गई तो नानी की लाश बरामद कर ली गई थी, लेकिन नाती का शव 36 घंटे बाद स्थानीय ग्रामीणों ने पानी में तैरता हुआ बरामद किया।

शव मिलते ही गांव वाले में कोहराम मच गया। वहीं परिजनों का रो रोकर बुरा हाल है। सूचना मिलते ही डरहार ओपी पुलिस मौके पर पहुंचकर बरामद शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए सहरसा सदर अस्पताल भेज दिया। मौके पर मौजूद ग्रामीण वीरेंद्र यादव ने बताया कि जिस स्थल पर नाव हादसा हुआ था उससे आधा किलोमीटर दक्षिण की तरफ धान के खेत में लाश मिली है, जिसे ग्रामीणों के सहयोग से बाहर निकाला गया।

इधर, परिजनों ने सरकार व प्रशासन से मांग की है कि मृतक के परिजनों उचित मुआवजा प्रदान करें, जिससे मृतक के परिवार का जीवनयापन हो सके। डरहार ओपीध्यक्ष अजित कुमार ने बताया कि सोमवार को डरहार बाजार से वापस गांव लौटने के क्रम में नाव पलटने से 70 वर्षीय बुजुर्ग महिला सहित बच्चे की मौत हो गई थी। दूसरे दिन बुजुर्ग महिला की लाश बरामद कर ली गई थी। आज बच्चे की लाश भी बरामद हो गई है।

खबरें और भी हैं...