आस्था:कायस्थ टोला में कलम के देवता चित्रगुप्त की हुई पूजा

सहरसाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

शहरी क्षेत्र के कायस्थ टोला स्थित चित्रगुप्त मंदिर में भगवान चित्रगुप्त की पूजा शनिवार को हुई। भगवान चित्रगुप्त मनुष्य एवं सभी प्राणियों के पाप-पुण्यों के कर्मों का लेखा एवं निर्धारण करने वाले तथा कलम के देवता कहलाते हैं। जिन्हें कायस्थ जाति के लोग अपना आदि पुरुष परमपिता मानते हैं। यहां के चित्रगुप्त पूजा का इतिहास काफी पुराना है। स्थानीय लोगों की माने तो वर्ष 1927 से उक्त मंदिर में भगवान चित्रगुप्त की पूजा-अर्चना प्रारंभ हुई थी। उसी वर्ष उक्त मंदिर के प्रांगण में शिक्षा के विकास के लिए चित्रगुप्त विद्यालय का निर्माण भी किया गया था। जहां अब सरकारी विद्यालय का संचालन किया जा रहा है।

खबरें और भी हैं...