पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

निष्पादन:राष्ट्रीय लोक अदालत में मुकदमा पूर्व के 459 मामलों का किया गया निष्पादन

सहरसा10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • स्थानीय व्यवहार न्यायालय में लगा लोक अदालत, सेटलमेंट अमाउंट 15191061 रुपया रहा

स्थानीय व्यवहार न्यायालय में शनिवार को आयोजित राष्ट्रीय लोक अदालत में मुकदमा पूर्व के 459 मामले का निष्पादन किया गया। जिसका सेटलमेंट अमाउंट 15191061 रुपया रहा। लोक अदालत में 731 लंबित वादों में 159 मामलों का निस्तारण किया गया । जिसका सेटलमेंट अमाउंट 2922000 रुपए रहा। बैंक वसूली के 236 मामलों का निष्पादन 10812122 रुपए पर सेटलमेंट किया गया। इसके अलावा 208 सर्टिफिकेट मामलों का निष्पादन 4329395 रुपये पर किया गया। टेलीफोन के 13 मामले का निष्पादन किया गया । जिसका सेटलमेंट अमाउंट 49544 रुपये रहा । राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकार दिल्ली एवं बिहार राज्य विधिक सेवा प्राधिकार पटना के निर्देश पर जिला विधिक सेवा प्राधिकार द्वारा आयोजित लोक अदालत में मुकदमा पूर्व बैंक लोन रिकवरी के 10759 मामले आए जिसमें 236 मामलों का निष्पादन किया गया और उसका सेटलमेंट अमाउंट 10812122 रूपया रहा। टेलीफोन संबंधित 533 मामले आए जिसमें 13 का निष्पादन किया गया और सेटलमेंट अमाउंट 49544 रूपया रहा। वैवाहिक संबंधित 6 मामले आए जिसमें 2 का निष्पादन किया गया। सर्टिफिकेट केस के मुकदमा पूर्व 6030 मामले आए जिसमें 208 का निष्पादन किया गया और सर्टिफिकेट केस का सेटलमेंट अमाउंट 4325395 रूपया रहा। इस प्रकार लोक अदालत के सामने मुकदमा पूर्व के 17344 मामले आए , जिसमें 459 का निष्पादन किया गया। जिसका सेटलमेंट अमाउंट 15191061 रूपया रहा। लंबित वादों में क्रिमिनल कमाउंडेबुल केसेस के 452 मामले लोक अदालत के सामने आए जिसमें 115 का निष्पादन किया गया। एनआई एक्ट के 92 मामले आए जिसमें 10 का निष्पादन किया गया। एमएसीटी केस के 48 मामले आए जिसमें 6 का निष्पादन किया गया और सेटलमेंट अमाउंट 2720000 रूपया रहा। लोक अदालत के सामने लेबर विवाद के 19 मामले आए जिसमें 1 का निष्पादन किया गया। बिजली बिल संबंधित 97 मामले आए जिसमें 15 का निष्पादन किया गया तथा सेटलमेंट अमाउंट 2020000 रूपया रहा। लंबित वादों में वैवाहिक मामले के 19 मामले आए जिसमें 12 का निष्पादन किया गया। इस प्रकार लंबित वादों के 731 मामले लोक अदालत के सामने आया जिसमें 159 का निष्पादन किया गया । जिसका सेटलमेंट अमाउंट कुल 2922000 रूपया रहा। जिला जज विनोद कुमार शुक्ला ने कहा कि लोक अदालत के आयोजन में बैंक, जिला प्रशासन एवं न्यायालय कर्मियों का काफी सराहनीय योगदान रह। लोक अदालत से काफी लोगों को लाभ मिला। मौके पर जिला विधिक सेवा प्राधिकार के सचिव रवि रंजन, आरक्षी अधीक्षक लिपि सिंह, अपर सत्र न्यायाधीश प्रथम मोतिश कुमार सिंह विशेष रूप से मौजूद थे।

खबरें और भी हैं...