कोरोना / मजदूरों का पलायन क्षेत्र के विवाद की खोल रहा पोल

Exodus of labor sector dispute opening
X
Exodus of labor sector dispute opening

  • कोसी क्षेत्र में कृषि सहित अन्य कार्य होते रहे प्रभावित

दैनिक भास्कर

May 24, 2020, 05:00 AM IST

सहरसा. कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण ने कोसी क्षेत्र से हरेक साल हजारों की संख्या में  पलायन करने वाले असंगठित क्षेत्र के मजदूरों एवं कोसी क्षेत्र में औद्योगिक विकास और आत्मनिर्भरता के संकल्प की पोल खोल कर रख दी है। हालांकि कोसी क्षेत्र में गन्ना, मक्का, मखाना एवं मत्स्य पालन, मशरूम उत्पादन, औषधीय खेती जैसे कई अन्य छोटे-छोटे कुटीर उद्योग की स्थापना कर युवाओं की बेरोजगारी दूर की जा सकती है। 
   साथ ही मजदूरों को रोजगार उपलब्ध कराया जा सकता है।

लेकिन कभी भी इस दिशा में कोई महत्वपूर्ण योजनाएं नहीं लाई गई है। जो भी योजना लाई गई उसकी राजनीति की बली चढ़ा दी गई  जिसका सबसे बड़ा उदाहरण करोड़ों की लागत से बैजनाथपुर में निर्मित पेपर मिल और शहर के गोबरगढा में निर्मित खादी भंडार को धागा आपूर्ति के लिए निर्मित पूनी प्लांट है। शहर के गोबरगढा में देश के विभिन्न राज्यों के खादी भंडार को धागे की आपूर्ति को लेकर पूनी प्लांट के साथ-साथ मलवरी उत्पादन के लिए पॉलिटेक्निक स्थित हजारों एकड़ भूमि में मलवरी सेंटर का निर्माण किया गया। रेशम कीट के लिए शहतूत की खेती भी होती है। जिला के कई प्रखंड के गांवों में किसानों को प्रशिक्षित भी किया गया और किसानों ने मलवरी का भी उत्पादन किया। लेकिन यह महत्वपूर्ण एवं महत्वाकांक्षी परियोजना भी दम तोड़ दी है। अगर इस तरह की परियोजना कोसी प्रमंडलीय मुख्यालय में जिंदा रहती और आद्योगिक विकास की दिशा में सरकार के कदम बढ़ते तो कोरोना वायरस के संक्रमणकाल में आज हजारों मजदूरों की रैली विभिन्न स्पेशल श्रमिक ट्रेन और बसों में लाैटती नहीं दिखती।
4 हजार लोग क्वारेंटाइन सेंटरों से हुए मुक्त  
देश के महाराष्ट्र, केरल, तमिलनाडु, हरियाणा, पंजाब, दिल्ली, राजस्थान, गुजरात, जम्मू कश्मीर, आंध्र प्रदेश एवं कर्नाटक से 22 मई 2020 की रिपोर्ट के अनुसार 18 हजार 556 मजदूर केवल सहरसा जिला के गांवों में पहुंचा है। जबकि जिला के विभिन्न प्रखंड क्षेत्रों में 280 क्वारेंटाइन सेंटरों में 207 सेंटर संचालित है और इन सेंटरों पर 29 हजार प्रवासी श्रमिकों को रखने की क्षमता है। अब तक 4 हजार से अधिक लोग विभिन्न क्वारेंटाइन सेंटरों मुक्त हो गए। 

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना