पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

शिक्षक नियोजन की काउंसलिंग के दौरान फर्जी अभ्यार्थी गिरफ्तार:सहरसा में शिक्षक बहाली की काउंसलिंग के दौरान पकड़ाया, थाने ले जाकर पूछताछ कर रही पुलिस

सहरसा16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
सहरसा में शिक्षक नियोजन की काउंसलिंग। - Dainik Bhaskar
सहरसा में शिक्षक नियोजन की काउंसलिंग।

सहरसा में प्रखंड स्तरीय शिक्षक नियोजन प्रक्रिया आज से शुरू हुई। इसी दौरान एक फर्जी अभ्यर्थी नियोजन के दौरान पुलिस के हत्थे चढ़ा। सदर थाने की पुलिस उसे पकड़ कर थाने ले गई। इस बाबत जब अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी संतोष कुमार से जानना चाहा तो उन्होंने कहा कि एक व्यक्ति को पकड़ कर थाना लाया गया है, उसकी जांच होगी। जांच के बाद यदि साबित होगा कि यह फर्जी अभ्यर्थी के तौर पर काउंसिलिंग में शामिल होने पहुंचे थे तो कार्रवाई की जाएगी।

दूसरी ओर, काउंसलिंग कुव्यवस्था का आलम है। अभ्यर्थी नियोजन इकाई की मनमानी का शिकार हो रहे हैं। केंद्र पर कोरोना गाइडलाइन की जमकर धज्जियां उड़ाई जा रही है। नियोजन के दौरान कई अनियमितताएं उजागर हो रही हैं। कई अन्य राज्यों के छात्रों को लेकर नियोजन इकाई भ्रम की स्थिति बनाए हुई है। ऐसे अभ्यर्थियों को नियोजन प्रक्रिया में शामिल होने से वंचित रखा जा रहा है। वंचित अभ्यार्थी यूपी से यहां पहुंचे थे, जिन्हें अन्य राज्य से आने वाले अभ्यर्थियों के नियम का हवाला देते हुए नियोजन प्रक्रिया से वंचित रखा गया।

इस बाबत कहरा प्रखंड के नियोजन पदाधिकारी सह प्रखंड विकास पदाधिकारी रचना भारतीय की मानें तो बिहार सरकार का एक पत्र आया है, जिसमें केवल बिहार के अभ्यर्थियों का ही नियोजन करने का निर्देश है और इसी आलोक में इन्हें नियोजन प्रक्रिया से वंचित किया गया है, जबकि उत्तर प्रदेश के जौनपुर से आए नीलम मौर्या व इंदु यादव की मानें तो उन्होंने 2019 के विज्ञापन के आधार पर नियोजन के लिए आवेदन किया था और इस आधार पर उसे मेधा सूची के क्रमांक में शामिल कर काउंसिलिंग के लिए बुलाया भी गया, लेकिन जब उनकी बारी आयी तो वापस लौटा दिया।

खबरें और भी हैं...