पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

लापरवाही:जिस घर में एक पंखा व बल्ब जलता वहां एक साल का बिजली बिल 47 हजार 307 रुपए

बनमा ईटहरी13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • सुगमा गांव के महादलित शंकर राम ने कहा- शिकायत की पर सुनी नहीं गई

सिमरी अनुमंडल में बिजली विभाग की कार्यशैली पर का अंदाजा इसी से लग जाएगा कि सहूरिया पंचायत के सुगमा गांव का महादलित शंकर राम को 1 वर्ष का बिजली बिल 47 हजार 307 रुपए दे दिया गया। शंकर ने बताया कि मेरे घर में सिर्फ एक बल्ब व पंखा चलता है। बावजूद इसके हमें इतना बिल दे दिया गया है। उन्होंने बताया कि इसकी शिकायत मैंने कई बार बिजली विभाग को की लेकिन अब तक कोई सुधि नहीं ले रहा है। उन्होंने बताया कि दूसरों के घर में काम कर अपनी रोजी-रोटी चलाता हूं। इतना बिल हम कहां से चुकता कर पाएंगे। यह हाल सुगमा गांव के कार्तिक ठाकुर का है। वे अपने परिवार के साथ पटना में रहते हैं। घर में बिजली का कनेक्शन कटा हुआ है। घर में अक्टूबर 2020 से ताला लगा हुआ है। बावजूद इसके भी बिजली विभाग के द्वारा जनवरी में शून्य, फरवरी में शून्य, मार्च में शून्य अप्रैल का भेजा ही नहीं गया। चार महीने बाद बगैर बिजली खपत किए हमें 118 यूनिट का 365 रुपए का बिल भेजा गया है।

आवेदन मिलने के बाद जांच की जाएगी
बंद घर में बिजली का बिल आएगी ही। क्योंकि डीपीएस, मीटर रेंट, फिक्स चार्ज संबंधित अन्य चीजों का बिल लगता है। उन्होंने बताया कि जिन उपभोक्ता का बिजली बिल अत्यधिक आया है। उन उपभोक्ताओं की तरफ से आवेदन मिलने पर जांच की जाएगी।
-अमित कुमार, बिजली विभाग के जेई

खबरें और भी हैं...