पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

सुस्ती:सतरकटैया प्रखंड बने 30 साल हो गए, अब तक मुख्यालय को अपना भवन नसीब नहीं

सत्तरकटैया9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
प्रखंड कार्यालय सत्तरकटैया।
  • सामुदायिक भवन में चल रहा प्रखंड कार्यालय, अधिकारियों व कर्मचारियों के बैठने की जगह नहीं

सतरकटैया क्षेत्र की जनता ने कई जनप्रतिनिधि दिए, इनमें कई मंत्री भी बने लेकिन सत्तरकटैया प्रखंड मुख्यालय को आज तक अपना भवन नहीं मिल सका। विगत 30 वर्षों में सतरकटैया प्रखंड की जनता ने पहले सहरसा विधान सभा क्षेत्र फिर महिषी विधानसभा क्षेत्र के लिए प्रतिनिधि चुनने में अपनी भूमिका निभाई लेकिन विकास के मामले में यह प्रखंड पीछे ही रह गया। सात विधायक बन कर मंत्री भी बने लेकिन सत्तरकटैया प्रखंड को अपना भवन भी नसीब नहीं हुआ। हालांकि पिछले 3 वर्षों से कई समाजसेवियों ने भवन निर्माण के लिए धरना-प्रदर्शन व अनशन करते रहे बावजूद सिर्फ अधिकारी के अनुशासन के सिवाय कुछ हाथ नहीं लगा। प्रखंड क्षेत्र के 14 पंचायतों में 2011 के जनगणना के अनुसार 1 लाख 51 हजार की जनसंख्या वाले प्रखंड भवन बिजलपुर पंचायत में निर्मित दो कमरे के एक सामुदायिक भवन में वर्षों से संचालित है। 1990 में लालू प्रसाद यादव के द्वारा कहरा प्रखंड से विभाजित कर सत्तरकटैया प्रखंड का सृजन कर बिजलपुर स्थित सामुदायिक भवन में शुरू किया गया था। प्रखंड में न केवल भवन की कमी है बल्कि गाड़ी पार्किंग व बाहरी लोगों के ठहराव की कोई व्यवस्था नहीं है। जगह की कमी के कारण गली कुची में कर्मचारी अपना टेबल लगते हैं। यदि केवल प्रखंड के कुल कर्मचारी किसी मीटिंग या सम्मेलन में पहुंच जाएं तो एक मात्र काली मैदान में ही सहारा लेना पड़ता है। एक ही कमरे में कई विभाग के अधिकारियों का टेबल लगाया जाता है। मनरेगा कर्मियों का कहना है बरामदा पर बने एक छोटे से कमरे में मनरेगा पीओ के साथ 18 कर्मचारी कार्यरत हैं जिसमें अगर कभी किसी कारण कर्मचारियों की बैठक बुलाई जाती है तो बाहर मैदान में ही जाना पड़ता है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- पिछले कुछ समय से आप अपनी आंतरिक ऊर्जा को पहचानने के लिए जो प्रयास कर रहे हैं, उसकी वजह से आपके व्यक्तित्व व स्वभाव में सकारात्मक परिवर्तन आएंगे। दूसरों के दुख-दर्द व तकलीफ में उनकी सहायता के ...

और पढ़ें