पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

तटबंध के अंदर लोगों की परेशानी:जलस्तर घटने के बाद कोसी का कटाव तेज, तीन घर नदी में समाए

नवहट्टा10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
तटबंध के अंदर गांव को जोड़ने वाली संपर्क सड़क पर लगा पानी। - Dainik Bhaskar
तटबंध के अंदर गांव को जोड़ने वाली संपर्क सड़क पर लगा पानी।
  • जलस्तर घटने पर भी नहीं घटी तटबंध के अंदर लोगों की परेशानी

कोसी नदी के जलस्तर में विगत 3 दिनों से लगातार गिरावट जारी रहने के बावजूद जिस गांव में पहले पानी प्रवेश कर गया, वहां के लोगों की परेशानी कम नहीं हुई है। पूर्वी और पश्चिमी तटबंध के बीच कोसी नदी में बीते 24 घंटे में जलस्तर में 2 फीट की कमी आई है।  जिसके कारण ऊंचे स्थान पर बाढ़ का पानी लोगों के घर आंगन से निकल रहा है। जबकि निचले इलाके में बाढ़ का पानी अभी भी लोगों के घर आंगन में है। केदली पुनर्वास के अशोक यादव सहित दो दर्जन से अधिक परिवार के आंगन में लगभग डेढ़ से दो फीट पानी लगा हुआ है। वही केदली पुनर्वास के ऊंचे स्थान से पानी धीरे-धीरे निकल रहा है। जगह-जगह सड़क क्षतिग्रस्त हो गया है। उस स्थान पर पानी का बहाव है। मिल्टन यादव ने बताया कि आबादी निष्कासन के लिए सरकारी नाव नदी मार्ग से तो चलती है। लेकिन अब जो स्थिति बनी है, उसमें छोटी नाव की आवश्यकता है। कोसी बराज से विगत 3 दिनों में एक लाख क्यूसेक से अधिक जल स्तर में गिरावट दर्ज की गई। मंगलवार को शाम 4 बजे 1 लाख 74 हजार 880 क्यूसेक घटते क्रम में डिस्चार्ज दर्ज किया गया।  वही बराह क्षेत्र में भी लगातार जलस्तर में गिरावट जारी है। कोसी नदी में घटते जलस्तर के कारण नदी का कटाव तेज हो गया है। मंगलवार को केदली पंचायत के छतबन चाही पर बसे संजय यादव, बैजू यादव, उमेश यादव का घर नदी की धारा में समा गया। इससे तीन परिवार विस्थापित हो गए। वही विनोद यादव, पप्पू यादव, इंदल यादव, भूप नारायण यादव के घर पर भी कटाव का खतरा मंडरा रहा है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज दिन भर व्यस्तता बनी रहेगी। पिछले कुछ समय से आप जिस कार्य को लेकर प्रयासरत थे, उससे संबंधित लाभ प्राप्त होगा। फाइनेंस से संबंधित लिए गए महत्वपूर्ण निर्णय के सकारात्मक परिणाम सामने आएंगे। न...

    और पढ़ें