तैयारी:महापर्व छठ के लिए सजा बाजार, लोगों ने शुरू की सूप और फलों की खरीदारी

सहरसाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
शंकर चौक पर स्थित दुकान में बांस का सूप खरीदतीं महिला। - Dainik Bhaskar
शंकर चौक पर स्थित दुकान में बांस का सूप खरीदतीं महिला।
  • चार दिवसीय सूर्योपासना का महापर्व छठ की शुरुआत कल नहाय खाय के साथ
  • केला, सेब और नारियल की दुकानों पर लोगों की बढ़ती जा रही भीड़

चार दिवसीय सूर्योपासना का महापर्व छठ की शुरुआत कल नहाय खाय के साथ शुरू हो रही है। लोग आवश्यक तैयारी में जुटे हैं। बाजार पूजन सामग्रियों से पट गया है। सड़कों किनारे दर्जनों की संख्या में नारियल की दुकान खुल गई है। सेब कारोबारी भी आशान्वित हैं। केला की मंडी सज गई है। चारो और छठ ही छठ है। जिले में लोक आस्था के महापर्व छठ को लेकर चारो तरफ सक्रियता बढ़ गई है। प्रशासन छठ घाटों को पूजा करने लायक बनाने के लिए प्रयासरत है तो आम जन जोर शोर से तैयारी में जुटे हैं। पर्व को लेकर बाजार पूजन सामग्रियों से पट गया है। बड़ी दुर्गा मंदिर में नारियल एवं केला की मंडी सज गई है। नारियल विक्रेता भाव कम होने से खुश नहीं है। बड़ी दुर्गा मंदिर में नारियल के कारोबारी मंटून साह ने बताया कि भाव कम है। जबकि आंध्रप्रदेश से एक ट्रक माल मंगाने में 1.5 लाख भाड़ा लगता है। एक 12 चक्का वाले ट्रक से लगभग 21000 नारियल आता है। उसके बाद अतिरिक्त खर्च है। व्यापार में घाटा लग रहा है। मंदिर परिसर में ही बुधमा से केला व्यवसाय करने पहुंचे मो. संजू ने बताया कि अभी केला की बिक्री जोर नहीं पकड़ी है। वर्तमान समय में 250 रुपए प्रति धौद की दर से बिक रहा है।

बड़ी दुर्गा मंदिर परिसर में नारियल बेचते व्यवसायी।
बड़ी दुर्गा मंदिर परिसर में नारियल बेचते व्यवसायी।

5 हजार रुपए से लेकर 6 हजार रुपए प्रति क्विंटल के भाव से सेब
शंकर चौक पर बांस का बर्तन यानी छीटा, सूप एवं डगरा का कारोबार करने वाले सराही निवासी राम विलास साह ने बताया कि माल अधिक उतर जाने से भाव स्थिर हो गया है। यहां तक कि सभी सामानों का दाम घट गया है। पिछले वर्ष कोरोना के कारण बाहर से माल नहीं आया था जिस कारण भाव ऊंचे थे। सेब की शानदार बिक्री का उम्मीद लगाए सब्जी मंडी के सेब कारोबारी अरूण सिंह ने बताया कि 5 हजार रुपए से लेकर 6 हजार रुपए प्रति क्विंटल के भाव से सेब उपलब्ध है। बिक्री भी हरे रही है। उन्होंने बताया कि यहां के सेब व्यवसायी मुख्य रूप से कश्मीर से सेब मंगाते हैं। एक ट्रक सेब मंगाने में एक लाख 60 हजार रुपए भाड़ा लगता है। एक ट्रक में औसतन एक हजार पेटी सेब आता है तथा एक पेटी का वजन 12 किलो से लेकर 15 किलो तक होता है। शहर में छठ के अवसर पर सेब की खपत के संबंध में उन्होंने बताया कि लगभग दस ट्रक सेब की खपत छठ पूजा के अवसर पर होती है।

खबरें और भी हैं...