पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

शर्मनाक:बेटा नहीं होने पर ससुराल वालों ने मां और एक साल की बेटी को जहर पिलाया, बेटी की मौत

सहरसा25 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
मुझे क्यों मिली सजा: बिना किसी गलती के गंवानी पड़ी जान। - Dainik Bhaskar
मुझे क्यों मिली सजा: बिना किसी गलती के गंवानी पड़ी जान।
  • मनीषा की दो बेटियां है, शुक्र है बड़ी बेटी नानी के घर पर थी, नहीं तो दानवों ने उसे भी मार दिया होता
  • बच्ची के शव को घर में ही दफनाने की थी साजिश, पति गिरफ्तार

सदर थाना क्षेत्र के पटुआहा गांव वार्ड -36 में शनिवार की देर रात दो बच्ची को जन्म देने के कारण पहले से खफा ससुराल वालों ने बेटी की मां और उसकी एक साल की बच्ची को जबरन जहर पिला दिया। जिसमें मासूम बच्ची की मौत घर में ही हो गई। वही गंभीर हालात में 25 वर्षीय मां मनीषा देवी को स्थानीय पॉलिटेक्निक ढाला स्थित एक निजी नर्सिंग होम में उसके नैहर वालों ने भर्ती कराया। जहां वह अब भी जीवन और मौत से लड़ रही है। सूचना जब मायके वालों को लगी तो दर्जनों परिजन सदर थाना क्षेत्र के पटुआहा टोला पहुंचे। जहां बच्ची के शव को बोरे में बंद कर घर में ही दफनाने की तैयारी हो रही थी। मायके वालों के पहुंचने की सूचना मिलते ही ससुराल वाले सभी आरोपी फरार हो गए। जिसकी सूचना सदर थानाअध्यक्ष को दी गई। मौके पर सदर पुलिस पहुंच भाग रहे आरोपी पति दीपक यादव को गिरफ्तार कर लिया।

चार महीने पूर्व हुई थी पंचायती
चार महीने पूर्व उनके गांव के समाज सहित पटुआहा गांव के लोगों द्वारा पंचायत भी रखी गई थी। पंचायत में सभी राजी-खुशी से एक-दूसरे के साथ रहने की बात पर समझौता भी कर लिया था। इसके बावजूद मनीषा के पिता रवीन्द्र यादव अपने साथ बड़ी नतनी को लेकर सतरकटैया के छिपा टोला लेकर आ गए थे।

पति सहित ससुराल वाले मनीषा को प्रताड़ित कर मांगते थे दहेज
पीड़ित मनीषा के पिता रविंद्र यादव ने बताया कि वे सत्तर कटैया प्रखंड के सत्तर पंचायत स्थित छिपा टोला वार्ड -4 के रहने वाले हैं। चिमनी भट्ठा पर दिहाड़ी मजदूरी करते हैं। चार साल पहले अपनी बेटी मनीषा कुमारी की शादी पटुआहा निवासी पवन यादव उर्फ दीपक से की थी। अपने सामर्थ्य के अनुसार दहेज और उपहार देकर बेटी को विदा किया था। इस दौरान मनीषा ने दो बच्ची को जन्म दिया। लगातार दो बच्ची के जन्म देने के बाद पति सहित ससुराल वाले काफी गुस्से में थे। इसके बाद मनीषा पर जन्म दे चुकी दोनों बेटियों के नाम पर दहेज की मांग होने लगी। फिर प्रताड़ना का दौर शुरू हुआ। उसे लगातार प्रताड़ित किया जाने लगा।

मनीषा की चीख सुन पड़ोसियों ने मायके वालों को दी थी सूचना

छोटी बच्ची और मनीषा ससुराल में ही रह गई थी। उसके साथ फिर लगातार मारपीट की जाने लगी। शनिवार को भी दिन भर उसके साथ लड़ाई, झंझट और मारपीट हुई थी। इसके बाद देर शाम पति पवन यादव, ससुर लक्ष्मण यादव, सास सहित अन्य ससुराल पक्ष के लोगों ने मनीषा और उसकी बच्ची को जहर खिला दिया गया। जिससे बच्ची की मौत तत्काल हो गई। मनीषा की चीख-पुकार से आस पास के लोगों ने मायके वाले को खबर दी। इसके बाद उसे आनन-फानन में पॉलिटेक्निक स्थित निजी नर्सिंग होम में भर्ती कराया। तब तक मायके वाले आ गए।

निजी नर्सिंग होम में गंभीर हालत में भर्ती मनीषा।
निजी नर्सिंग होम में गंभीर हालत में भर्ती मनीषा।

आरोपी दीपक का दूसरी महिला से संबंध

मायके वाले मनीषा के ससुराल गए। जहां मासूम बच्ची को खोजा गया तो घर में बोरे में छिपाकर रखी उसकी लाश बरामद हुई। वहीं, घर में ही खुदाई भी की गई थी। यानी उसे घर में ही दफनाने की तैयारी हो रही थी। पड़ोसियों ने कहा आरोपी दीपक का संबंध गांव के ही एक मुस्लिम महिला से था। जिसको लेकर भी काफी विवाद हो रहा था।

अन्य आरोपियों की भी गिरफ्तारी की जाएगी
बच्ची के शव को बरामद कर लिया गया है। मनीषा अभी इलाजरत है। मुख्य आरोपी की गिरफ्तारी हो गई है। अन्य फरार आरोपी की गिरफ्तारी की जाएगी।
संतोष कुमार, सदर एसडीपीओ

खबरें और भी हैं...