पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

स्वास्थ्य:अब सहरसा में सस्ते में करा सकेंगे सिटी स्कैन मेडिकल कॉलेज में सरकारी दर पर होगी जांच

सहरसा18 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • लाॅर्ड बुद्धा कोसी मेडिकल कॉलेज व अस्पताल में सीटी स्कैन का उद्‌घाटन

जिले के एकमात्र लॉर्ड बुद्धा कोसी मेडिकल कॉलेज और अस्पताल में अब आम मरीजों को सरकारी दर पर सीटी स्कैन की सुविधा मिलने लगी है। करीब डेढ़ करोड़ से अधिक की लागत से लगाई गई सीटी स्कैन मशीन का बुधवार को बैजनाथपुर स्थित मेडिकल कॉलेज परिसर में जदयू विधायक गुंजेश्वर साह और सिविल सर्जन डॉ. अवधेश कुमार ने कॉलेज के संस्थापक डॉ. पीके सिंह के साथ संयुक्त रूप से उद्घाटन किया।

पहले सहरसा के सरकारी अस्पतालों खासकर सदर अस्पताल में भी सीटी स्कैन की सुविधा नहीं रहने के कारण अब आम मरीजों को निजी अस्पतालों के सीटी स्कैन में महंगे दर पर जांच से छुटकारा मिल जाएगा। मौके पर मेडिकल कॉलेज के संस्थापक डा. पी. के. सिंह ने कहा कि सरकारी अस्पतालों में पीपीपी मोड पर सीटी स्कैन का जो चार्ज जांच के लिए निर्धारित किया गया है वही सुविधा यहां आने वाले मरीजों को मिलेगी। सीटी स्कैन के नाम पर दोहन बंद होगा। दिल्ली एम्स में काम कर चुकी रेडियोलॉजिस्ट डा. अनामिका मीणा ने बताया कि सीटी स्कैन जांच में शरीर के अंदर तक की संरचनाओं का अध्ययन किया जाता है। इससे सिर, नाक, स्पाईन, चेस्ट, होल ऐबडोमेन सहित सभी तरह के टीशू का सूक्ष्म अध्ययन किया जाता है।

मौके पर महिषी के जदयू विधायक गुंजेश्वर शाह ने कहा कि कॉलेज के चेयरमैन डॉ पीके सिंह ने अपना सब कुछ गवां कर सहरसा को मेडिकल कॉलेज दिया है। बाढ़ प्रभावित क्षेत्र में मेडिकल कॉलेज का होना यहां के लोगों के लिए नए जीवन के समान है। उन्होंने स्वीकार किया कि विकास के मामले में सहरसा अपने पड़ोसी जिले से काफी पिछड़ गया है। हालांकि उम्मीद जताई कि कॉलेज प्रबंधक एवं कर्मचारियों के मेहनत से आने वाले दिनों में लॉर्ड बुद्धा कोसी मेडिकल कॉलेज प्रमंडल का सबसे बड़ा अस्पताल बनेगा।

डॉ. पीके ने कॉलेज खोल रचा इतिहास : ओम प्रकाश नारायण
मौके पर सीपीआई राष्ट्रीय परिषद के सचिव ओम प्रकाश नारायण ने कहा कि कुछ लोग इतिहास पढ़ते हैं लेकिन डॉ पीके सिंह ने इतिहास रच दिया है। कोरोना संक्रमण के दौरान मंदिर और मस्जिद बंद रहा लेकिन अस्पताल और मेडिकल कॉलेज मानवता की सेवा करता रहा। कांग्रेस जिलाध्यक्ष प्रो. विद्यानंद मिश्र ने कहा कि डा. पी. के. सिंह के अदम्य साहस ने सहरसा को कम से कम एक बड़ा कॉलेज और अस्पताल दिया। सरकार ने तो इस जिला को विकास के मामले में हासिए पर रख दिया है।

प्रसिद्ध डॉक्टर, कारोबारी सहित मेडिकल छात्र-छात्राएं थीं मौजूद
कार्यक्रम में जाने माने स्त्री रोग विशेषज्ञ डा. कल्याणी सिंह, सदर अस्पताल के वरीय चिकित्सक डा. किशोर कुमार मधुप, कॉलेज के प्राचार्य, डा. एस. के. यादव, अधीक्षक डा. बी. पी. सिंह, उपाधीक्षक डा. एस. एन. सिंह, डा. गणेश कुमार, डा. मनोज झा, व्यवसायी कैलाश गुप्ता, राम सुंदर साहा, बिंदेश्वरी यादव सहित मेडिकल कॉलेज के सभी विभागों के विभागाध्यक्ष, अध्ययनरत छात्र-छात्राएं मौजूद थे।

खबरें और भी हैं...