पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

दुर्वव्यवहार:100 पर फोन करने के 24 घंटे बाद आई पुलिस ने पीड़ित को ही पीटा

नवहट्टाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
नवहट्‌टा थाने के जमादार उदयनाथ का वीडियो वायरल। - Dainik Bhaskar
नवहट्‌टा थाने के जमादार उदयनाथ का वीडियो वायरल।
  • बराही गांव का मामला, नवहट्‌टा थाने के जमादार उदय नाथ ने कार्रवाई की जगह किया दुर्वव्यवहार

सरकार कहती है जब आप मुसीबत में हों और जब आपको पुलिस से मदद की जरूरत हो या फिर किसी तरह के हो रहे अपराध को देख रहे हैं तो 100 नं. डायल कर सूचना दे सकते हैं। खुद के साथ क्राइम हुआ है तो भी 100 नंबर डायल कर सूचना देने को कहा जाता है। लेकिन नवहट्‌टा थाना की पुलिस ने 100 पर मदद मांगने पर एक युवक को उसके घर पर जाकर पीट दिया। बराही गांव के राहुल के सामने मारपीट हो रही थी। मारपीट की घटना की सूचना 100 पर दे दी। इतना ही नहीं दो पक्षों के बीच हो रही मारपीट में बीच-बचाव करने गए उस युवक को एक पक्ष के लोगों ने मारपीट कर जान मारने की धमकी दी तो उसने उक्त नंबर को डायल कर पुलिस कंट्रोल को सूचना दे दी। इसी बात से तमतमाए नवहट्‌टा थाना के जमादार उदय नाथ शर्मा पुलिस बल के साथ बराही गांव स्थित राहुल यादव के घर पर पहुंच पहले यह पूछा कि किसने 100 न. पर कॉल किया था। राहुल को लगा कि उसके कॉल पर पुलिस कार्रवाई के लिए आ गई है। उसने जैसे ही कहा कि हमने किया है, जमादार उदय नाथ शर्मा भद्दी-भद्दी गाली देते हुए उसकी पिटाई शुरू कर दी। हलांकि कॉल करने के 24 घंटे बाद नवहट्टा थाना के जमादार उदय नाथ शर्मा पुलिस बल के साथ घटनास्थल पर पहुंचे थे। पिटाई के दौरान जमादार कहता रहा कि 100 नंबर पर कॉल करने का मतलब समझते हो। तुम्हारी हिम्मत कैसे हुई। एसडीपीओ संतोश कुमार ने कहा जांच कराई जाएगी। दोषी पाए जाने पर कार्रवाई की जाएगी।

पीड़ित ने एसपी को दिया आवेदन, न्याय की लगाई गुहार
पीड़ित राहुल कुमार यादव ने एसपी को आवेदन देकर न्याय की गुहार लगाई है। आवेदन में पीड़ित ने कहा है कि 4 जुलाई को मेरे पड़ोस में दो पक्षों के बीच लड़ाई हुई थी। मैं वहां बीच बचाव करने पहुंचा तो पंकज कुमार यादव ने मेरे साथ मारपीट की। जान से मारने की नियत से हमला कर दिया। स्थिति की नजाकत को देखते हुए मैने स्थानीय थाना फोन लगाया। लेकिन फोन नहीं लगा। तब मैंने जान माल की सुरक्षा को लेकर एक सौ नंबर पर कॉल कर दिया। कॉल करने के 24 घंटे बाद शाम के करीब 5:00 बजे के आसपास जमादार उदयनाथ शर्मा पुलिस बल के साथ पहुंचे और कहा कि किसने एक सौ नंबर पर कॉल किया है। कॉल करने का मतलब समझते हो और मेरे साथ मारपीट करने लगे। इस दौरान उक्त जमादार ने भद्दी भद्दी गालियां दी । इस बाबत पीड़ित ने जमादार के द्वारा किए गए दुर्व्यवहार का वीडियो बनाकर वायरल भी किया है।

पीड़ित राहुल कुमार यादव।
पीड़ित राहुल कुमार यादव।

ये है प्रावधान : 100 नं. पर संपर्क के 6 से 10 मिनट में पुलिस को मदद मुहैया कराना होता है

100 न. पर कॉल करने पर कॉल एटेंड करने वाले ऑपरेटर पीड़ित शख्स के नजदीक वाली पीसीआर को भेज देते है। इसके साथ ही लोकल पुलिस को भी इसकी सूचना दे दी जाती है। सूचना मिलने के 6 से 10 मिनट के अंदर पीसीआर कॉलर के पास पहुंच जाता है। यह बड़े शहरों के लिए त्वरित पुलिसा कार्रवाई के लिए प्रावधान किया गया है। यह इस बात पर डिपेंड करता है कि आपका कॉल किस नेचर का है। दूसरी समस्या बताने पर उक्त कॉल को संबंधित विभाग को सूचना दे दी जाती है। अगर आप पुलिस को कोई सूचना देना चाहते हैं, तो ऐसे में नाम और पता बताना जरूरी नहीं होता। लेकिन अगर आप किसी मुसीबत में फंसे हैं और पुलिस हेल्प चाहते हैं तो आपको नाम और पता बताना होगा।

खबरें और भी हैं...