पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बदहाली:हेल्थ सेंटर में रखी जाती आलू की बोड़ियां 14 हजार लोग इलाज को जाते 14 किमी दूर

पतरघट6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
पस्तपार में बनी उपस्वास्थ्य केंद्र होती जा रही जर्जर। - Dainik Bhaskar
पस्तपार में बनी उपस्वास्थ्य केंद्र होती जा रही जर्जर।
  • पस्तापार पंचायत में सिर्फ 1 निजी डॉक्टर, दूसरा विकल्प पीएचसी व मधेपुरा
  • 10 साल से उप स्वास्थ्य केंद्र विरान, भवन के दरवाजे-खिड़की भी हो गए क्षतिग्रस्त

प्रखंड क्षेत्र के पस्तपार पंचायत के लोगों को स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध कराने के लिए जलैया वार्ड-2 में उप स्वास्थ्य केन्द्र का निमार्ण किया गया था। लेकिन कोरोना महामारी के इस भयावह दौर में बिहार का ऐसा कोई पंचायत-गांव नहीं जहां कोरोना के लक्षणों से मौत नहीं हुई हो । वहीं पस्तपार पंचायत की आबादी लगभग 14 हजार है। जबकि पूरे इलाके में करीब-करीब हर घर में सर्दी-बुखार के मरीज हैं। वहीं लोग पूरी तरह एकमात्र पस्तपार बाजार के निजी डॉक्टर के भरोसे हैं। मरीज अपनी परेशानी निजी डॉक्टर को बताते हैं और व उन्हें जो दवा दे देता है उसे खाकर ठीक हो गए तो ठीक नहीं तो लगभग 14 किमी दूर पीएचसी पतरघट या मधेपुरा अस्पताल या फिर निजी क्लीनिक चले जाते हैं ‌। रविवार को पस्तपार उप स्वास्थ्य केन्द्र जाने पर दिखा गेट तो जाफरी की लगी हुई है लेकिन खिड़की भी गायब है। अंदर देखा तो आलू की बोरियां रखी थी। अब तो गांव के लोग भूल गए कि उनके गांव में एक उप स्वास्थ्य केंद्र भी हैं। इस संबंध में वहां के स्थानीय लोग संतोष यादव,राजो ठाकुर,मख्खन दास,मनोज मंडल,विजेन मुखिया, धीरेन्द्र यादव ने बताया कि जब से उप स्वास्थ्य केन्द्र का निमार्ण हुआ तब यहां कुछ स्वास्थ कर्मी भी आते थे। लेकिन लगभग 10 साल से यहां कोई नहीं आया है। जब कोई खासकर जरुरी मिटिंग होती है। उसी दिन एएनएम आती है। उन लोगों ने कहा कि जब कोई व्यक्ति बीमार होता है। तो वह लोगों को इलाज के लिए पतरघट प्राथमिक स्वास्थ केन्द्र नहीं मधेपुरा 14 किमी दूर इलाज के लिए जाना पड़ता है। वही

पस्तपार उप स्वास्थ्य केंद्र में रखा आलू।
पस्तपार उप स्वास्थ्य केंद्र में रखा आलू।

रिपेयरिंग के बाद हेल्थ सेंटर चालू होगा
उप स्वास्थ्य केंद्र के हिसाब से डाॅक्टर नहीं है। जहां एएनएम की बात है अभी सभी एएनएम कोविड वैक्सीनेशन कार्य करते साथ में बच्चे का टीकाकरण कार्य भी कर रही। जिले में जर्जर पस्तपार उप स्वास्थ्य केन्द्र के बारे में जानकारी दी गई है। रिपेयरिंग होने के बाद उप स्वास्थ केन्द्र चालू किया जाएगा।
पीएचसी प्रभारी, डॉ. बबीता कुमारी

26 नए कोरोना संक्रमित मिले, दो की हुई मौत

सहरसा | बीते 12 दिनों में नए संक्रमित की संख्या 50 से नीचे रही है। जिले का रिकवरी रेट 97 फीसदी से ऊपर है लेकिन मौतों का सिलसिला जारी है। लेकिन बीते 24 घंटे में 26 नए मरीज मिलने के साथ-साथ दो और संक्रमित व्यक्ति की मौत की पुष्टि हुई है। जबकि 6 संक्रमित व्यक्ति को स्वस्थ होने के उपरांत डिस्चार्ज किया गया है। शनिवार को जिले के 13 जांच केंद्रों पर रैपिड एंटीजन किट से हुए 1550 सैंपल की जांच में मात्र 16 मरीज मिले हैं। ट्रु नेट से हुई 13 की जांच में 5 सैंपल का रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। जबकि 5 पॉजिटिव रिपोर्ट 3 जून को आरटीपीसीआर से जांच के लिए भेजे गए सैंपल का आया है। शनिवार को सदर अस्पताल में 97 सैंपल की जांच में 11, सीएचसी नवहट्‌टा में 206 सैंपल की जांच में 1, सीएचसी सलखुआ में 120 सैंपल की जांच में 1, पीएचसी सोनवर्षा में 196 सैंपल की जांच में 3 मरीज मिले हैं। अन्य 9 जांच केंद्रों पर एक भी मरीज नहीं मिले हैं। 26 नए मरीज मिलने से दूसरी लहर में संक्रमित होने वालों की संख्या बढ़कर 10033 हो गई है। जिसमें 9769 व्यक्ति स्वस्थ हो चुके हैं। बीते 24 घंटे में दो और संक्रमित व्यक्ति की मृत्यु की पुष्टि होने से दूसरी लहर में मृतकों की संख्या बढ़कर 84 हो गई है। जिले में दूसरी लहर में अभी तक 167523 सैंपल की जांच की गई है जिसमें ओवरऑल पॉजिटिविटी रेट 5.99 फीसदी दर्ज किया गया है।

खबरें और भी हैं...