पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

समस्या:सदर अस्पताल के कई वार्डों की छत से टपकता है बारिश का पानी, ओटी के सामने जमा रहता पानी से परेशानी

सहरसा14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
बच्चा वार्ड के मुख्य द्वार के सामने टपकता पानी। - Dainik Bhaskar
बच्चा वार्ड के मुख्य द्वार के सामने टपकता पानी।
  • सदर अस्पताल परिसर में 100 बेड का नया अस्पताल बन रहा, पुराने को लेकर उदासीन हुआ विभाग
  • ऑपरेशन थिएटर के सामने भी हल्की बारिश में जलजमाव, महिला वार्ड में दो तीन जगहों पर छत से पानी टपकता

सदर अस्पताल बरसात में नारकीय स्थिति में पहुंच जाता है। जहां इलाज के लिए पहुंचने वाले मरीज एवं उनके परिजनों को अपनी बीमारी के साथ-साथ अन्य कई तरह के भी परेशानियों से जुझना पड़ता है। बरसात में जहां सदर अस्पताल परिसर में जगह-जगह जल जमाव की स्थिति बनी रहती है। वहीं कई वार्ड में छत से पानी टपकता रहता है। इतना ही नहीं अब ऑपरेशन थिएटर के सामने भी हल्की बारिश में जलजमाव हो रहा है। हालांकि बारिश के खत्म होने के कुछ घंटे बाद जहां परिसर से पानी निकल जाता है। चूंकि इन दिनों सदर अस्पताल परिसर में ही 100 बेड का नया अत्याधुनिक सुविधाओं से युक्त सदर अस्पताल का निर्माण हो रहा है। ऐसे में पुराने भवन को दुरुस्त करने के प्रति स्वास्थ्य विभाग पूरी तरह उदासीन बन गया है। जिसके कारण वर्तमान में मरीजों को काफी परेशानी झेलनी पड़ती है।

बच्चा वार्ड के सामने एस्बेस्टस है टूटा, पानी है टपकता
सदर अस्पताल के बच्चा वार्ड के सामने छत में लगा एस्बेस्टस दो जगह पर टूटा हुआ है। जिससे बरसात के दौरान सीधे पानी बच्चा वार्ड के मुख्य द्वार के निकट बरामदे पर गिरने लगता है। घंटे भर की बारिश में ही बच्चा वार्ड के सामने जलजमाव की स्थिति उत्पन्न हो जाती है। हालांकि बारिश के खत्म होने के बाद सफाई कर्मियों द्वारा इस जलजमाव को हटा दी जाती है। लेकिन बच्चा वार्ड में भर्ती मरीजों एवं उनके परिजनों को हो रही बारिश में काफी परेशानी झेलनी पड़ती है।

शौचालय जाने के दौरान पानी में भींग कर जाना पड़ता
सदर अस्पताल के महिला वार्ड में भी दो से तीन जगहों पर छत से पानी सीधे बिस्तर पर टपकता रहता है। हालांकि महिला वार्ड की चौड़ाई अधिक है। जिसके कारण छत से टपकने वाले पानी के नीचे से बेड को हटाकर जिस तरफ पानी नहीं टपकता है वहां मरीज का बेड लगा दिया जाता है। महिला वार्ड से बाथरूम की ओर जाने वाली गली में भी छत से काफी तेज गति से पानी टपकता है। ऐसे में महिला वार्ड में भर्ती मरीजों को शौचालय तक जाने के लिए पानी में भींग पर जाना पड़ता है।

इमरजेंसी वार्ड के सामने की जमीन नीची होने के कारण हल्की बारिश होने पर भी लग जात पानी
इमरजेंसी वार्ड के दोनों तरफ जहां ऊंची सड़क का निर्माण कर दिया गया है। वहीं इमरजेंसी वार्ड के सामने जमीन काफी नीची हो गई है। ऐसे में हल्की बारिश में इमरजेंसी वार्ड और डीएस कार्यालय के सामने पोर्टिको में जलजमाव हो जा रहा है। जिसके कारण इमरजेंसी वार्ड में भर्ती मरीजों एवं उनके परिजनों को संभलकर वार्ड में जाना पड़ता है।

सदर अस्पताल के ओटी कक्ष के आगे जमा बरसात का पानी।
सदर अस्पताल के ओटी कक्ष के आगे जमा बरसात का पानी।

नाला निर्माण में संवेदक कर रहे लेटलतीफी
वहीं, नाम ना छापने के आग्रह पर सदर अस्पताल के कई कर्मियों ने बताया कि सदर अस्पताल में नाला निर्माण का कार्य संवेदक को सुपुर्द किया गया है। लेकिन बीते महीने भर से संवेदक काम के प्रति काफी लापरवाह बने हुए हैं। जिससे नाला निर्माण का कार्य धीरे-धीरे चल रहा है। जिसके कारण जलजमाव की स्थिति सदर अस्पताल परिसर में बनी रहती है।

मरम्मत की प्रक्रिया की जा रही है
नाला निर्माण में लापरवाही बरतने वाले संवेदक को की शिकायत की जाएगी। जहां-जहां छत से पानी टपकता है। उसको दुरुस्त करवाने की प्रक्रिया की जाएगी।
मित कुमार चंचल, मैनेजर, सदर अस्पताल

खबरें और भी हैं...