पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

लापरवाही:मत्स्यगंधा झील संवारने की डेटलाइन बीते सात माह हुए, पर पेवर ब्लॉक भी नहीं लगा

सहरसा19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
अधूरा मत्स्यगंधा झील जिसके किनारे लगाया जाना है पेवर ब्लॉक। - Dainik Bhaskar
अधूरा मत्स्यगंधा झील जिसके किनारे लगाया जाना है पेवर ब्लॉक।
  • मत्सगंधा झील के शेष कार्य के लिए पत्र लिखा गया है, जल्द होगा सौंदर्यीकरण : डीएम
  • 1 करोड़ 68 लाख की एक अलग योजना सरकार के पास स्वीकृति के लिए भेजी गई है

मत्स्यगंधा झील को संवारने की डेटलाइन बीते सात माह हो गए पर अबतक पेवर ब्लॉक तक नहीं लगा। जल जीवन हरियाल योजना के तहत लघु सिंचाई विभाग द्वारा अक्टूबर 2019 में शुरू की गई 7 करोड़ 47 लाख की परियोजना का काम जून 2020 में ही पूरा कर लेना था। पर्यटन की दृष्टि से विकसित करने के लिए 1 करोड़ 68 लाख की एक अलग योजना सरकार के पास स्वीकृति के लिए भेजी गई है। इस योजना पर सरकार की स्वीकृति की मुहर लग जाती है तो आने वाले समय में शहर के मुख्य पर्यटन स्थल मत्स्यगंधा झील का स्वरूप और आकर्षक हो जाएगा। जल संचय के उद्देश्य से जल जीवन हरियाली योजना के तहत झील की उड़ाही के साथ-साथ चारों तरफ पेवर ब्लॉक लगाने और पौधरोपण के लिए सरकार 7 करोड़ 47 लाख की योजना की स्वीकृति दो वर्ष पहले दे चुकी है। इसमें पेवर ब्लॉक और पौधरोपण का कार्य अभी शुरू नहीं किया गया है। पूर्व की स्वीकृत योजना के अतिरिक्त लघु जल संसाधन विभाग को जिलाधिकारी कौशल कुमार द्वारा मत्स्यगंधा झील किनारे 8 जगहों पर सीढ़ी बनाने और बेंच लगाने का एक अलग पस्ताव भेजा गया है। इसकी स्वीकृति मिल जाने के बाद झील की सौंदर्यता और बढ़ जाएगी।

मातेश्वरी कंस्ट्रक्शन को जिम्मा
औरंगाबाद की एजेंसी मातेश्वरी कंस्ट्रक्शन 6 करोड़ 32 लाख 33 हजार पर इकरारनामा के बाद वित्त्ीय वर्ष 2019-20 में झील उड़ाही का काम शुरू किया गया। झील के पश्चिमी हिस्सों में जिस तरह उड़ाही का काम हो पाया वैसा पूर्वी हिस्सों में दल-दल जमीन के कारण संभव नहीं हो सका। झील के बीच में यह काम निर्धारित मापदंड के अनुसार पूरा नहीं हो पाया। इसकी मुख्य वजह कोरोना संकट के कारण अधिक दिनों तक काम ठप रहना, फिर बरसात का समय आ जाना बताया जाता है। हलांकि झील की उड़ाही के बाद इसबार पानी का ठहराव हो गया है। लेकिन इसकी सही स्थिति का आकलन आने वाली बरसात से पहले ही हो पाएगा।

2019 में शुरू हुई थी परियोजना
समय रहते एजेंसी पर दबाव नहीं बनाया गया तो संभव है मत्स्यगंधा जलाशय की महत्वाकांक्षी परियाेजना इस साल भी पूरी नहीं हो पाएगी। जल जीवन हरियाल योजना के तहत लघु सिंचाई विभाग द्वारा अक्टूबर 2019 में शुरू की गई 7 करोड़ 47 लाख की परियोजना का काम जून 2020 में ही पूरा कर लेना था। लेकिन कई परिस्थितियों के कारण आज तक परियोजना के बचे कार्य भी पूरा नहीं किया गया। करीब 70 लाख की लागत से झील के चारों तरफ लगाए जाने वाले पेवर ब्लॉक का काम अभी तक शुरू नहीं हो पाया है। जिलाधिकारी कौशल कुमार ने कार्य एजेंसी लघु सिंचाई विभाग को जल्द से जल्द परियोजना के बचे कार्य को पूरा कराने का सख्त निर्देश दिया है। जिलाधिकारी ने बताया कि 8 फीट की चौड़ाई में झील के किनारे की सड़क पर पेवर ब्लॉक लगाया जाना है।

ईई का पद खाली इसलिए हो रहा देर
झील के बचे कार्य को पूरा करने के लिए संबंधित विभाग को पत्र दिया गया है। सहरसा में लघु सिंचाई विभाग के कार्यपालक अभियांता का पद विगत कई महीनों से खाली है। अधीक्षण अभियंता इस काम को देख रहे हैं। बहुत जल्द बचे कार्य शुरू करने का निर्देश दे दिया गया है।
कौशल कुमार, जिलाधिकारी , सहरसा

जल्द काम शुरू करवा रहे हैं
कार्य एजेंसी मातेश्वरी कंस्ट्रक्शन कंपनी को पेवर ब्लॉक लगाने के लिए पत्र निर्गत किया जा चुका है। साइट पर कुछ पेवर ब्लॉक गिराया भी गया है। बिजली पोल के कारण कुछ समस्या आ सकती है लेकिन बहुत जल्द काम शुरू करवा रहे हैं।
शशिभूषण चौधरी, अधीक्षण अभियंता , लघु जल संसाधन विभाग

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज ग्रह गोचर और परिस्थितियां आपके लिए लाभ का मार्ग खोल रही हैं। सिर्फ अत्यधिक मेहनत और एकाग्रता की जरूरत है। आप अपनी योग्यता और काबिलियत के बल पर घर और समाज में संभावित स्थान प्राप्त करेंगे। ...

    और पढ़ें