पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

जल-जीवन-हरियाली का नहीं मिला फायदा:अधिकांश गांव में कुओं का अस्तित्व हुआ खत्म

बनमा ईटहरी4 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
कुआं के अंदर गंदगी का अंबार। - Dainik Bhaskar
कुआं के अंदर गंदगी का अंबार।
  • महारस गांव के मां कात्यायनी मंदिर में कुएं की स्थिति दयनीय

कुमोद सिंह कुआं जल संरक्षण का महत्वपूर्ण साधन है। लगभग तीन दशक पूर्व तक अधिकांश गांवों में पेयजल एवं सिंचाई के लिए सबसे अधिक प्रयोग कुआं का किया जाता था। आज कुओं का वजूद समाप्त हो रहा है। आज लोगों को रस्सी के सहारे बाल्टी से पानी खींचना अब मुसीबत लगने लगा है। अधिकांश लोग चापाकल व सबमर्सिबल पर निर्भर हो गए हैं।

शहर की बात तो दूर गांव में भी लोग अब नल पर निर्भर होने लगे हैं। प्रखंड के कुछ कुआं में जल स्तर अच्छा है लेकिन जागरूकता के अभाव में गंदगी का पर्याय बन गए हैं। सरकारी भवन परिसर में स्थित कुओं का अस्तित्व तो पहले से ही समाप्त कर दिया गया। बनमा ईटहरी प्रखंड के महारस गांव के मां कात्यायनी मंदिर के प्रांगण में कुएं की स्थिति दयनीय हो गई है।

कुआं का जलस्तर नीचे चला गया है। ग्रामीण प्रेम कुमार, हरिशंकर सिंह, रणवीर कुमार, ललितेश सिंह, प्रवीण कुमार ने बताया कि कुआं से ग्रामीण प्यास बुझाते थे। इसी कुआं के पानी से ग्रामीण मंदिर में पूजा-पाठ करते थे परंतु अब घर से पानी लाना पड़ रहा है। जीर्णोद्धार पर किसी का ध्यान नहीं है। भगवानपुर महदेवा स्थान में स्थित शिव मंदिर के पास काफी पुराना कुआं है।

पहले इस कुआं का उपयोग पूजा करने से लेकर पीने के पानी के लिए किया जाता था। अब यही कुआं गंदगी और बदबू का प्रयाय बन चुका है। जदयू प्रखंड अध्यक्ष रमेश चंद्र यादव की माने तो एक जमाने में कुआं जल संरक्षण का महत्वपूर्ण साधन होता था।

तपती धूप में कुआं मुसाफिरों के लिए पानी पीने का एक मात्र जरिया हुआ करता था। पीओ विजय कुमार नीलम ने बताया कि कुआं के जीर्णोद्धार के प्रति विभाग जागरूक है। जल-जीवन हरियाली अभियान के तहत कुओं का सर्वे कराया गया है। जीर्णोद्धार कराने की योजना है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आप अपने काम को नया रूप देने के लिए ज्यादा रचनात्मक तरीके अपनाएंगे। इस समय शारीरिक रूप से भी स्वयं को बिल्कुल तंदुरुस्त महसूस करेंगे। अपने प्रियजनों की मुश्किल समय में उनकी मदद करना आपको सुखकर...

    और पढ़ें