पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बाढ़ का कहर:बकरा नदी के तट पर बसे तीन घर पानी में समाए, दूसरे के घर में ली शरण

सिकटी6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
जल निस्सरण विभाग द्वारा पड़रिया गांव में किया जा रहा कटाव निरोधक कार्य। - Dainik Bhaskar
जल निस्सरण विभाग द्वारा पड़रिया गांव में किया जा रहा कटाव निरोधक कार्य।
  • जल निस्सरण विभाग द्वारा पड़रिया गांव में किया जा रहा है कटाव निरोधक कार्य

सिकटी प्रखंड क्षेत्र के पश्चिमी भाग में बहने वाली बकरा नदी के तट पर बसा पड़रिया गांव के तीन परिवारों का घर बकरा नदी में समा गया है। तीनों परिवार गांव के किसी दूसरे के घर में शरण लिए हुए हैं। एक अन्य परिवार का घर कभी भी बकरा नदी में समा सकता है। विस्थापित होने वाले परिवारों में सुदर्शन मंडल, अरुण मंडल, विनोद मंडल का पक्का का घर बकरा नदी में समा गया है। जबकि जागेश्वर मंडल का घर कभी भी बकरा नदी में समा सकता है। वहीं जल निस्सरण विभाग के द्वारा पड़रिया गांव में कटाव निरोधक कार्य किया जा रहा है। वहीं हर वर्ष बकरा नदी से पीरगंज, डैनिया, तीरा, खारदह, पडरिया, नेमुआ पीपरा, गांव में दर्जनों परिवारों को विस्थापन का दंश झेलना पड़ता है। बकरा नदी के कटाव के जद में अभी भी तीन दर्जन परिवार है। जिनका घर बकरा नदी में कभी भी समा सकता है। इन गांवों के लोगों का बसना और उजड़ना नियती बन गया है। विस्थापित परिवारों ने बताया कि बकरा नदी से हमलोग कई बार विस्थापित हो चुके हैं। दूसरे जगह घर बनाते हैं बकरा नदी एक दो साल के बाद पन: कटाव करते-करते घर के पास आ जाता है।
सांसद, विधायक के पहल पर शुरू हुआ कटाव निरोधक कार्य : जल निस्सरण विभाग के द्वारा तत्काल कटाव निरोधक कार्य शुरू किये जाने पर ग्रामीणों ने सांसद प्रदीप कुमार सिंह, सिकटी विधायक विजय कुमार मंडल को धन्यवाद कहा है। भाजपा कार्यकर्ताओं ने कहा कि सांसद प्रदीप कुमार सिंह व सिकटी विधायक विजय कुमार मंडल के द्वारा जल निस्सरण विभाग को बकरा नदी में हो रहे कटाव को देखते हुये विभाग को आवेदन देकर कटाव निरोधक कार्य शुरू करने को कहा था। जिस कारण बकरा नदी के पडरिया गांव में कटाव निरोधक कार्य शुरू होने से लगभग तीन दर्जन परिवारों का घर बकरा नदी में विलीन होने से बच जायेगा।
ग्रामीणों ने की बकरा नदी से कटाव से स्थाई निदान की मांग: पड़रिया के ग्रामीण विशेश्वर मंडल, सुदर्शन मंडल, अरुण मंडल, विनोद मंडल, जागेश्वर मंडल, विनय कुमार, अनिल कुमार, संजीव कुमार, अरविंद कुमार ने बताया कि बकरा नदी से हर वर्ष दर्जनों परिवारों को विस्थापन का दंश झेलना पड़ता है। इसलिए ग्रामीणों ने कटाव से स्थाई निदान दिलाने की मांग की। ग्रामीणों का कहना है कि अभी जो सांसद, विधायक के पहल पर जल निस्सरण विभाग के द्वारा कटाव निरोधक कार्य जो कराया जा रहा है वह तत्काल कटाव तो रूक जायेगा, हमलोगों को कटाव से स्थाई निदान चाहिए। हमलोग कब तक ऐसे बर्बाद होते रहेंगे। ग्रामीणों का कहना है कि हमलोग बकरा नदी से दर्जनों बार विस्थापित होकर भूमिहीन हो गये हैं।

खबरें और भी हैं...