पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

मेडिकल कॉलेज:संसाधन की कमी, फिर भी हम कर रहे बेस्ट : डॉक्टर गौरीकांत

सिंहेश्वर12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • अस्पताल आने वाले मरीज होते हैं काफी गंभीर, इलाज के बाद 357 मरीज हो चुके हैं रिकवर

जेएनकेटी मेडिकल कॉलेज में चिकित्सकों की लापरवाही का मामला तूल पकड़ते जा रहा है। राजद के सिंहेश्वर विधायक चंद्रहास चौपाल एक सप्ताह में दो बार मेडिकल कॉलेज जाकर स्थिति को देखे और डॉक्टरों पर मरीजों की उपेक्षा का आरोप लगाया। इस पर प्राचार्य डॉक्टर गौरीकांत मिश्र ने सफाई दी। उन्होंने कहा कि मेडिकल कॉलेज पहले से ही कई समस्याओं से जूझ रहा है। खुलने के साथ ही पिछले साल कोरोना आ गया। इधर, कोरोना से कुछ चिकित्सक भी संक्रमित हो गए हैं। फिर भी जो चिकित्सक नहीं आ रहे हैं उन पर आवश्यक कार्रवाई भी की जा रही है। उनका वेतन रोक कर रिपोर्ट सरकार को भेजी जा रही है। चिकित्सक पर लापरवाही के आरोप के जवाब में उन्होंने कहा यह उतना सही नहीं है। चिकित्सक जो भी हैं, जी जान से मरीजों की इलाज में लगे हुए हैं। जैसे भी हो मरीज को बचाना है। उसके लिए हम बेस्ट कर रहे हैं। हालांकि लोग हमलोगों से जितना अपेक्षा और आशा रखते हैं। संसाधन की कमी के कारण उतना हम नहीं कर पाते हैं। इस कारण से मरीज के परिजन लापरवाही का आरोप लगाते हैं। हम तो अभी नवजात मेडिकल कालेज में से हैं। रेफर वाले मरीजों को बाहर से ही भेज दिया जाता है के सवाल पर उन्होंने कहा कि हमारी जानकारी में ऐसा नहीं है।

जेएनकेटी में 482 पद रिक्त
प्राचार्य ने बताया कि मेडिकल कॉलेज के पास 39 वेंटिलेटर है। दरभंगा में भी 19 वेंटिलेटर है। मैन पावर की कमी है। फैकल्टी में चिकित्सक की कमी है। नर्सिंग स्टाफ की कमी है। उन्होंने बताया कि 680 पद के विरुद्ध मात्र 198 बहाल हैं। 482 पद रिक्त है। चिकित्सकों की कमी को पूरा करने के लिए सरकार ने मेडिकल कॉलेज में 15 मेडिकल अफसर की कांट्रेक्ट बहाली करने का आदेश दिया है। जिसे 10 मई को रोस्टर बना कर बहाल किया जाएगा।

मेडिकल कॉलेज की व्यवस्था भगवान भरोसे : विधायक

सिंहेश्वर|मेडिकल कॉलेज की व्यवस्था पर सिंहेश्वर के राजद विधायक चंद्रहास चौपाल ने सवाल खड़ा किया है। उन्होंने कहा कि 800 करोड़ का यह मेडिकल कॉलेज है। यहां सात जिले के गंभीर कोविड मरीज भर्ती किए जाते हैं। लेकिन इलाज के बदले यहां से अधिकांश लोगों की सिर्फ मौत हो रही है। स्वास्थ सुविधा को लेकर आए दिन तमाशा देखने को मिलता है। एक मरीज के इलाज में लापरवाही के आरोप पर राजद विधायक चंद्रहास चौपाल मेडिकल कॉलेज पहुंचे। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार पूरी तरह फेल है। आम जनता के पैसा से बना 800 करोड़ का मेडिकल कॉलेज सिर्फ दिखावे का बना हुआ है। यहां न पर्याप्त चिकित्सक हैं और न नर्सिंग स्टाफ। मेडिकल कॉलेज में पहले से ही 180 ऑक्सीजन सिलेंडर की प्रतिदिन की जरूरत है। उसे 50 से 60 सिलेंडर उपलब्ध कराया जा रहा है। 500 बेड का अस्पताल है लेकिन यहां भगवान ही मालिक हैं। लोग इधर- उधर लाश फेंक कर जाने लगे हैं। दो दिन पहले सिंहेश्वर के मुक्तिधाम में तीन लाश फेंकी हुई थी। एसपी को कह कर हटवाए।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- समय अनुसार अपने प्रयासों को अंजाम देते रहें। उचित परिणाम हासिल होंगे। युवा वर्ग अपने लक्ष्य के प्रति ध्यान केंद्रित रखें। समय अनुकूल है इसका भरपूर सदुपयोग करें। कुछ समय अध्यात्म में व्यतीत कर...

    और पढ़ें