लापरवाही / नयागांव सेंटर पर बासी सब्जी देने पर भड़के प्रवासी मजदूर, किया हंगामा

Migrant workers raging over stale vegetables at Nayagaon center, created ruckus
X
Migrant workers raging over stale vegetables at Nayagaon center, created ruckus

  • डीएम के आदेश के बावजूद क्वारेंटाइन सेंटरों की व्यवस्था में नहीं हो रहा सुधार

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 05:00 AM IST

सुल्तानगंज. जिला प्रशासन के लाख दावे के बावजूद प्रखंडों में बनाए गए क्वारेंटाइन सेंटरों पर कुव्यवस्था का आलम है। कहीं गंदगी फैली है तो कहीं आए दिन प्रवासी मजदूर भोजन, पानी को लेकर हंगामा कर रहे हैं। सुल्तानगंज प्रखंड के कुल 23 क्वारेंटाइन सेंटरों पर 2093 मजदूरों को रखा गया है।

मजदूरों का कहना है कि हमे मूलभूत सुविधा उपलब्ध नहीं कराई जा रही है। गुरुवार की रात नयागांव पंचायत के ऊंचागांव मिडिल स्कूल के मजदूरों ने भोजन में बासी सब्जी देने का आरोप लगाते हुए हंगामा किया। मजदूरों ने बताया कि भोजन और नाश्ता की गुणवत्ता भी ठीक नहीं हैं।

हंगामा का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया। वहीं इस संबंध में पंचायत के मुखिया राहुल कुमार राय ने बताया कि ऊंचागांव मिडिल स्कूल क्वारेंटाइन सेंटर पर हाईस्कूल नयागांव क्वारेंटाइन सेंटर से बना हुआ भोजन मजदूरों को दिया जा रहा है। बची हुई सब्जी को कार्यकर्ता वापस लेकर जाने लगे तो मजदूरों को आशंका हुई कि सुबह उन्हें बासी सब्जी परोस दी जाएगी। सब्जी को फेंकने का दबाव मजदूर बनाने लगे।

सूचना पर मैं वहां पहुंचा और मजदूरों को वस्तुस्थिति से अवगत कराया। मुखिया ने बताया कि पंचायत के कुछ लोग जानबूझकर मजदूरों को भड़का रहे हैं। वहीं मिडिल स्कूल करहरिया क्वारेंटाइन सेंटर पर शुक्रवार की सुबह फ्राई चुड़ा, दालमोट व जलेबी मजदूरों को नाश्ते में दिया गया। कुछ मजदूरों ने हरी मिर्च का डिमांड किया।

व्यवस्थापक ने हरी मिर्च नहीं दी तो मजदूराें ने हंगामा किया और कुछ मजदूर अपने घर से रोटी सब्जी मंगाकर खाया। वहीं कुछ महिला मजदूरों ने रात में भोजन नहीं मिलने की शिकायत की। पंचायत के मुखिया प्रतिनिधि संजीव कुमार सिंह ने बताया कि कुछ विरोधी लोग मजदूरों को भड़काने का काम करने में जुट गए हैं। तथा मजदूरों को मानक अनुरूप सुविधा उपलब्ध कराई जा रही है। इधर, मिडिल स्कूल मिरहट्टी के क्वारेंटाइन सेंटर पर रुके कुछ मजदूर प्रतिबंधित चीजों को सेंटर के अंदर मंगाया। व्यवस्थापक ने जब इसका विरोध किया तो मजदूर उग्र हो गए। मुखिया मदन मंडल ने मजदूरों को शांत कराया।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना