पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कोसी की विभीषिका:कोसी के दबाव में 125 फीट टूटा सुरक्षा बांध, डूबी फसलें, सिकरहट्‌टा-मझारी निम्न बांध में सीपेज शुरू

निर्मली13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
मौजहा में केले के थंब के सहारे गांव से बाहर निकल रहा बच्चा। - Dainik Bhaskar
मौजहा में केले के थंब के सहारे गांव से बाहर निकल रहा बच्चा।
  • डगमारा के सिकरह‌ट्‌टा में स्पर संख्या एस-2 पर दबाव के कम करने के लिए बना है यह बांध
  • डगमारा-सिकरहट्‌टा निम्न बांध टूटा तो निर्मली तक दर्जनों गांव हो जाएंगे तबाह

मंगलवार की शाम छह बजे कोसी नदी का जलस्तर इस साल के सर्वाधिक स्तर 2,43,515 क्यूसेक बढतेक्रम में पहुंच गया। इससे बांध-तटबंध के कई बिंदुओं पर दबाव बढ़ गया है। डगमारा के सिकरहट्टा स्पर संख्या एस(2) से जुड़ी जवाहर योजना से निर्मित बांध पानी के दबाव से करीब 125 फीट कटकर बह गया। बांध के बहने की खबर मिलते ही एसडीएम नीरज नारायण पांडेय, एसडीपीओ पंकज कुमार एवं कार्यपालक अभियंता सतीश कुमार ने स्थल का जायजा लिया। जहां उपस्थित पश्चिमी तटबंध के कर्मचारी व अधिकारी को सुरक्षात्मक कार्य के कई निर्देश देते हुए जवाहर योजना बांध के कटे हिस्से को दुरुस्त करने के लिए विलेज प्रोडक्शन राघोपुर को अविलंब कार्य करने का निर्देश दिया। वहीं एसडीएम ने बताया कि जवाहर योजना के बांध का कुछ भाग पानी में बह जाने से सिकरहट्टा-मझारी निम्न बांध पर पानी का दबाव बढ़ गया है। जिस कारण बांध में सीपेज होने लगा है। सीपेज स्थल पर युद्धस्तर पर बोरा क्रेटिंग का कार्य किया जा रहा है। बताया जा रहा है कि अगर यह बांध टूटा तो डगमारा, सिकरहट्‌टा सहित निर्मली तक के दर्जनों गांव बाढ़ से तबाह हो जाएंगे। हालांकि, स्थल पर उपस्थित अभियंता को निर्देश देते हुए वरीय अधिकारी ने कहा कि सीपेज स्थल पर गुणवत्तापूर्ण निरोधात्मक कार्य किया जाए। वहीं पश्चिमी कोसी तटबंध के कार्यपालक अभियंता सतीश कुमार ने बताया कि पूरी बारीकी से सीपेज स्थल पर कार्य जारी है। बांध सुरक्षित है एवं स्थिति नियंत्रण में है। इस अवसर पर पश्चिमी कोसी तटबंध के कार्यपालक अभियंता सतीश कुमार, कुनौली थानाध्यक्ष राम इकबाल पासवान, परमात्मा सिंह, विलेज प्रोडक्शन ग्रामीण फ्लड के जेई मनोज झा, एई ब्रजेश कुमार, एसी सहित कई अन्य उपस्थित थे।

लोगों ने विभागीय अधिकारियों पर लगाया अनदेखी का आरोप
इधर, सिकहरहट्टा के ग्रामीण सत्यनारायण कामत, आशीष कुमार, विष्णु देव मेहता, भिखारी पासवान, सोनेलाल पासवान, शिवम मेहता, लाल चंदेश्वर मेहता, विनोद सादा, रंजीत कुमार मेहता, ननकी सादा ने बताया कि सिकरहट्टा स्पर से सटे जवाहर योजना की बांध का बीते कई वर्ष पूर्व निर्माण किया गया था। इसके कट जाने से लोगों की मुसीबत बढ़ गई है। इससे सिकरहट्टा मझारी सुरक्षा बांध व सिकरहट्टा स्पर पर पानी का दबाब बढ़ गया है। लोगों ने बताया कि यह जवाहर योजना बांध सिकरहट्टा के सपर संख्या एस1 लेकर एस2 तक निर्मित है। जिस पर आज तक किसी विभाग की नजर नहीं गई। इस बांध पर ग्रामीणों द्वारा हर वर्ष चंदा जमा कर मिट्टी दिया जाता था। हज़ारों एकड़ में लगी धान की फसल बर्बाद नहीं होती और ना ही बांध पर दबाब बनता। लोगों ने सुरक्षा व राहत की मांग की है।

कोसी का जलस्तर बढ़ने से बाढ़ में फंसे लोग परेशान

किसनपुर| कोसी नदी उफान पर है। जिससे तटबंध के अंदर बसे लोगों के समक्ष जान-माल की सुरक्षा एवं यातायात की समस्या उत्पन्न हो गई है। वहीं स्थानीय प्रशासन की ओर से अब तक नाव की समुचित व्यवस्था नही होने से लोगों को अवागमन में परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। इस कारण कहीं लोग केले के थंब का नाव बनाकर अपने जान-माल की सुरक्षा में लगे हैं तो कोई जान पर लेकर छाती पर पानी में तैरकर खाने-पीने का समान ऊंचे स्थल पर ले जा रहा हैं। प्रखंड के बाढ़ प्रभावित कुल नौ पंचायत में परसामाधो, बौराहा, मौजहा, दुबियाही, नौआबाखर पूर्ण रूप से प्रभावित है। जबकि किसनपुर उत्तर, किसनपुर दक्षिण, कटहारा कदमपुरा एवं शिवपुरी आंशिक रूप से बाढ़ प्रभावित है। कोसी तटबंध के अंदर के ग्रामीण संतोष कुमार यादव, पप्पू कुमार यादव, सुधीर कुमार, मो मुस्तफा आदि ने बताया कि कोसी नदी में पानी बढ़ने से आवागमन में परेशानी हो रही है। सीओ संध्या कुमारी ने कहा कि फिलहाल बाढ़ प्रभावित पंचायत में 50 नाव की व्यवस्था की गई है। संबंधित मुखिया से कहा गया है कि जहां भी नाव की आवश्यकता है, जानकारी दें।

खबरें और भी हैं...