पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

चिंताजनक:प्रतापगंज पीएचसी के 3 डॉक्टर समेत 301 नए केस, एक की मौत

सुपौल/सिमराही12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
राघोपुर में कोरोना जांच के लिए सैंपल लेते स्वास्थ्यकर्मी। - Dainik Bhaskar
राघोपुर में कोरोना जांच के लिए सैंपल लेते स्वास्थ्यकर्मी।
  • कोरोना मरीजों की संख्या बढ़कर 10529, 3434 का चल रहा इलाज
  • 34 लोगों की मौत, सदर प्रखंड में 72 नए केस

जिले में मंगलवार को कोरोना के 301 नए मरीज मिले। इनमें बसंतपुर के 20, छातापुर-21, किसनपुर-7, मरौना-5, निर्मली-9, पिपरा 44, प्रतापगंज 34, राघोपुर 31, सरायगढ़ 25, सुपौल 72 व त्रिवेणीगंज के 28 लोग हैं। 10529 संक्रमित सामने आ चुके हैं। 7062 लोगों ने कोरोना को मात दी है। 3434 एक्टिव मरीज हैं। 603167 संदिग्धों की सैंपलिंग की गई है। 1113 सैंपलों की जांच रिपोर्ट पेंडिंग है। कोरोना से 34 लोगों की मौत हुई है। इधर, जिला मुख्यालय के गौरवगढ़ निवासी 60 वर्षीय सत्यनारायण यादव की कोरोना से मौत हो गई। 3 दिन पूर्व तबियत खराब होने पर सत्यनारायण को सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया था। दो दिनों से उनका इलाज चल रहा था। सोमवार देर रात उन्होंने दम तोड़ दिया। उनके साथ अस्पताल में उनकी बूढ़ी पत्नी थीं। पत्नी ने बताया कि उनके सभी बच्चे बाहर रहते हैं। जिला प्रशासन के सहयोग से अंतिम संस्कार किया गया। प्रतापगंज पीएचसी में पिछले 6 दिनों के दौरान कार्यरत तीन डॉक्टर, एक डाटा ऑपरेटर एवं दो स्वास्थ्य कर्मी कोरोना संक्रमित हुए हैं। इनमें डॉ. आनंद सिंह, डॉ. प्रसन्ना सिंह, डॉ. रुकैया यास्मीन, डाटा ऑपरेटर मनीष कुमार समेत अन्य शामिल हैं। इससे पीएचसी की व्यवस्था चरमरा गई है। पीएचसी एक मात्र डॉक्टर प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी के भरोसे चल रहा है। वहीं, कोरोना संक्रमितों की जांंच भी ईएमटी के भरोसे कराई जा रही है। चिकित्सा प्रभारी समेत महज 3 डाक्टर ही स्थायी रूप में पदस्थापित हैं। इनमें दो स्थायी डाॅक्टर, एक आरबीएसके महिला डाॅक्टर, एक डाटा अापरेटर व दो एएनएम कोरोना संक्रमित हो गए हैं।

कोरोना काल से पहले से महज तीन डॉक्टर के भरोसे चल रहा प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र

इसको लेकर प्रतापगंज के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डाॅ. एचपी साहू ने बताया कि कोरोना संक्रमण के पूर्व से ही पीएचसी महज तीन स्थायी डाॅक्टर के भरोसे चल रहा था। इस बाबत विभाग समेत वरीय पदाधिकारियों का ध्यान भी आकृष्ट किया जाता रहा है, लेकिन समस्या का समाधान नहीं किया गया। अब कोरोना संक्रमण को लेकर समय काफी संवेदनशील हो गया है। ऐसे समय में डाॅक्टर सहित अन्य स्वास्थ्य कर्मियों का कोरोना पाजिटिव निकलना चिंता का विषय है। इस बाबत विभाग के साथ वरीय पदाधिकारी को लिखा जा रहा है। अगर, समय रहते व्यवस्था नहीं की गई और स्वास्थ्य कर्मी कोरोना की चपेट आ गए तो पीएचसी का बंद होना तय है। लोगों ने भी कोरोना के इस संवेदनशील समय को देखते हुए राज्य स्वास्थ्य समिति, जिला प्रशासन और जिला के शल्य चिकित्सक से पीएचसी में स्वास्थ्य कर्मचारियों के अभाव को देखते हुए अविलंब डाक्टर समेत अन्य स्वास्थ्य कर्मी का पदस्थापन कराने की गुजारिश की है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव - आर्थिक स्थिति में सुधार लाने के लिए आप अपने प्रयासों में कुछ परिवर्तन लाएंगे और इसमें आपको कामयाबी भी मिलेगी। कुछ समय घर में बागवानी करने तथा बच्चों के साथ व्यतीत करने से मानसिक सुकून मिलेगा...

    और पढ़ें