पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कार्यक्रम:मतदान के लिए लोगों को जागरूक करेगा भगत महासभा

सुपौल6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
सुपौल के मां वन देवी दुर्गा मंदिर में बैठक करते लोग। - Dainik Bhaskar
सुपौल के मां वन देवी दुर्गा मंदिर में बैठक करते लोग।
  • मां वन दुर्गा मंदिर में अखिल भारतीय लोकगीत भगैत महासभा की वार्षिक बैठक संपन्न, वार्षिक लेखा-जोखा भी किया पेश

सदर प्रखंड अंतर्गत मां वन दुर्गा मंदिर परिसर हरदी दुर्गा स्थान में रविवार को अखिल भारतीय लोकगीत भगैत महासभा के तत्वावधान में वार्षिक बैठक वार्षिक सभापति घिनाय यादव की अध्यक्षता में हुई। इसमें विगत बैठकों की समीक्षा और वार्षिक कार्ययोजना तैयार किया गया। सर्वसम्मति से लोकतंत्र के सबसे बड़ा महापर्व में मतदाता जागरूकता कार्य करने का निर्णय लिया गया। बैठक को संबोधित करते हुए महासभा के प्रवक्ता डॉ. अमन कुमार ने कहा कि प्रेम, एकता एवं सद्भाव का प्रतीक धर्म है। इंसान को भगवान व श्मसान को हर हमेशा याद रखना चाहिए। मानव दानव बनता जा रहा है। भाईचारा, सहयोग व मदद सिमटता जा रहा है। जिसके अभाव में चोर, उचक्कों, गुंडे, मवालियों का सामाजिक स्तर पर तिरस्कार होने की जगह पूजा हो रही है। कहा कि वोट ही मतदाता की असली आवाज है। सबों को राष्ट्रहित को ध्यान में रखकर निडर होकर मतदान करना चहिए। मत की कीमत अमूल्य है। इसीलिए इनका उपयोग जाति, धर्म, सम्प्रदाय, रिश्ता, लिंग भेद, क्षेत्रवाद, भाषावाद से ऊपर उठकर प्रत्येक मतदाता को निष्पक्ष होकर अपनी सूझ-बूझ से मतदान करना चाहिए। डॉक्टर, इंजीनियर, प्रोफेसर, आईएएस, आईपीएस, राजनेता, उद्योगपति, अरबपति, नायक, सिनेस्टार आदि का वोट का जितना महत्व है उतना ही एक साधारण मतदाता के वोट का महत्व है। इसीलिए इसे व्यर्थ न गवाएं। अच्छे और सच्चे प्रतिनिधि बनाने के लिए बिहार पंचायत चुनाव 2021 में शत -प्रतिशत मतदान करें। कहा कि वोट ही समाज व क्षेत्र की तक़दीर एवं तस्वीर बदलने की असली औजार है। न्याय, विकास और जनसम्मान को ध्यान में रखकर सबों को मतदान करना चाहिए।

धरती के लिए खून बहा रहे हैं मानव
महासभा सचिव परमेश्वरी यादव ने कहा कि सनातन धर्म सर्वधर्म समभाव एवं वसुधैव कुटुम्बकम् की भावना से ओत-प्रोत है। मानव धरती के लिए खून बहा रहे हैं। कई पीढियां गुजर गई मगर आज तक धरती न किसी के साथ गई और न जाएगी। वार्षिक सभापति घीनाय यादव ने कहा कि मां-बाप 5 बच्चों को पाल सकते हैं। लेकिन 5 बच्चे अपनी मां-बाप की देखभाल करने में असमर्थ है। यह काफी चिंता का विषय है। वार्षिक यज्ञशाला मंत्री गजेन्द्र प्रसाद यादव, कोषाध्यक्ष रघुनन्दन यादव, महात्मा चंदेश्वरी यादव, उपसभापति अनंत लाल यादव, सचिव परमेश्वरी यादव, भुवनेश्वरी यादव, उप कोषाध्यक्ष लक्ष्मी प्रसाद यादव, मासिक सभापति यदुनंदन यादव, रामखेलावन यादव, कदमलाल यादव, महेश्वरी प्रसाद यादव, रामचंद्र यादव, लालमोहन यादव, सुरेंद्र यादव, खट्टर यादव, फुलेन्द्र यादव, रामप्रसाद यादव, बाबूजी यादव, बिन्देश्वरी मंडल, अशोक यादव, दलपति बच्चेलाल मेहता आदि
उपस्थित थे।

खबरें और भी हैं...