नाराजगी / एसटीईटी परीक्षा रद्द करने के विरोध में मनाया काला दिवस

Black day observed in protest against cancellation of STET exam
X
Black day observed in protest against cancellation of STET exam

  • हाथ में काली पट्टी बांधकर अभाविप ने किया सरकार का विरोध

दैनिक भास्कर

May 24, 2020, 05:00 AM IST

सुपौल. अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद नगर इकाई सिमराही ने हाई स्कूल शिक्षक पात्रता परीक्षा (एसटीईटी) रद्द करने के बिहार बोर्ड के निर्णय को दुर्भाग्यपूर्ण करार दिया है। एसटीईटी परीक्षा बेवजह रद्द करने के विरोध में अभाविप ने शनिवार को पूरे बिहार में काला दिवस के रूप ऑनलाइन आंदोलन किया। 
  इसी क्रम में अभाविप सिमराही के कार्यकर्ताओं ने अपने अपने घरों पर रहकर हाथ में काली पट्टी बांधकर बिहार सरकार के खिलाफ ऑनलाइन आंदोलन किया। अभाविप कार्यकर्ताओं ने एसटीईटी परीक्षा रद्द होने के विरोध में शनिवार को काला दिवस मनाया। मीडिया संयोजक सुपौल सह नगर मंत्री सिमराही अरुण जायसवाल ने कहा कि बिहार बोर्ड का यह निर्णय न केवल दुर्भाग्यपूर्ण है बल्कि आत्मघाती भी है। इसको लेकर संगठन बिहार के राज्यपाल, मुख्यमंत्री, उपमुख्यमंत्री, शिक्षा मंत्री व बिहार बोर्ड अध्यक्ष को पत्र लिख पुनर्विचार का आग्रह किया है। 
आंसर की पर आपत्ति के बाद भी परीक्षा रद्द क्यों: उन्होंने कहा कि परीक्षा के दौरान संपूर्ण समय काल की वीडियोग्राफी भी करायी गई थी। जिन सेंटर्स पर अभ्यर्थियों ने परीक्षा बहिष्कार किया था या फिर देर से केंद्र पर पहुंचने की वजह से गेट लॉक कर दिए गए थे। उन केंद्रों पर बोर्ड ने फरवरी में पुनः परीक्षा भी ली थी। लेकिन फरवरी की परीक्षा के बाद कभी भी किसी न्यूज़ पेपर, छात्र संगठन या परीक्षार्थी समूह ने न तो परीक्षा रद्द करने की मांग की और न बहिष्कार किया। फिर बोर्ड ने आंसर शीट जारी कर आपत्ति की तिथियां घोषित की। ऐसे में परीक्षा रद्द क्यों की गई। आंदोलन में नगर अध्यक्ष अभिषेक कुमार, प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य प्रो रामकुमार कर्ण, प्रो सुरेश चौधरी, नगर सह मंत्री सुमन गुप्ता, अंकित पांडेय, शुभम कुमार, मनीष कुमार, रिकेश झा, मुकेश कुमार, आशीष कुमार आदि कार्यकर्ताओं ने में भाग लिया।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना