तैयारी:18 छठ घाटों की सफाई शुरू, कोरोना वैक्सीन लेने पर ही घाट जाने की छूट

सुपौल21 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
घाट का निरीक्षण करते डीएम व अन्य - Dainik Bhaskar
घाट का निरीक्षण करते डीएम व अन्य
  • नगर के चिह्नित छठ घाटों का डीएम, एसपी व अन्य अधिकारियों ने लिया जायजा
  • ​​​​​​​सभी घाटों की गहराई का आंकलन कर अधिक पानी की जगह होगी बैरिकेडिंग

08 नवंबर को नहाय-खाय के साथ शुरू होने वाले सूर्योपासना के महापर्व छठ के लिए जिला मुख्यालय स्थित छठ घाटों पर जोर-शोर से साफ-सफाई की जा रही है। चिह्नित छठ घाटों की साफ-सफाई नगर परिषद द्वारा कराई जा रही है। शनिवार को डीएम महेन्द्र कुमार, एसपी मनोज कुमार, सदर एसडीएम मनीष कुमार, नप ईओ रामस्वरुप लोक आस्था के महापर्व छठ की तैयारी को लेकर जिला मुख्यालय के विभिन्न छठ घाटों पर चल रही साफ-सफाई का जायजा लेने पहुंचे। निरीक्षण के दौरान डीएम ने अधिकारियों को घाट के साफ सफाई, घाट पर लाइट की व्यवस्था एवं चेंजिंग रूम की समुचित व्यवस्था करने का निर्देश दिया। डीएम विभिन्न छठ घाटों पर चल रही साफ-सफाई के कार्य से संतुष्ट दिखे। मौके पर डीएम कहा कि लोक आस्था का महापर्व छठ लोग खुशी-खुशी मनाएं।

गांधी मैदान स्थित तालाब।
गांधी मैदान स्थित तालाब।

घाटों पर पहनना होगा मास्क
छठ पर्व को लेकर घाटों पर पहुंचते वाले लोग कोविड संक्रमण के मानक का पूरी तरह से ख्याल रखें एवं मास्क का प्रयोग करें। डीएम ने कहा कि जिन लोगों ने कोविड का टीका नहीं लिया है, वो घाट पर प्रवेश नहीं करेंगे। सभी घाटों के गहराई का आंकलन कर अधिक गहराई वाले स्थान को चिन्हित कर बैरिकेडिंग लगाया जाएगा। इसके अलावे आवश्यकतानुसार विभिन्न घाटों पर एनडीआरएफ, एसडीआरएफ एवं मोटर वोट प्रतिनियुक्त किए जाएंगे।

अर्घ्य से एक दिन पूर्व होगा घाट का निरीक्षण
महापर्व को लेकर नगर परिषद भी सजग है। ईओ ने बताया कि शनिवार को निरीक्षण के दौरान विभिन्न घाटों पर चेंजिंग रुम बनाने के लिए जगह का चयन कर लिया गया है। 9 नवंबर तक सभी घाट पर लाइट की व्यवस्था करने के लिए बिजली विभाग को आदेश दिया गया है। 9 नवंबर को फिर से घाटों को निरीक्षण किया जाएगा।

नगर क्षेत्र में बनाए गए 18 घाट
महापर्व को लेकर नगर परिषद क्षेत्र में 18 घाट बनाए गए हैं। जानकारी देते हुए नगर परिषद ईओ कृष्णस्वरुप ने बताया कि गांधी मैदान, बीआरसी परिसर स्थित घाट, प्रखंड परिसर, एसपी आवास आदि पोखर की भी साफ-सफाई करवाई गई है। शेष घाटों पर भी सफाई कार्य तेजी से चल रहा है। गहराई वाले पोखरों में जहां पानी अधिक है, वहां बैरिकेडिंग बनाया जा रहा है। ताकि छठ व्रती गहरे पानी में ना जाए। रामदास अखाड़ा स्थित तालाब की भी छठ के मद्देनजर साफ-सफाई करवाई गई है। ताकि छठ व्रतियों को किसी प्रकार की परेशानी न हो।

खबरें और भी हैं...