पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

दो माह की बंदी:सावन-भादो में श्रद्धालु नहीं कर सकेंगे सिंहेश्वर मंदिर में पूजा

सुपौल4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मंदिर न्यास समिति के सभा कक्ष में सदस्यों के साथ बैठक करते डीएम, एसपी।
  • कोरोना को ले 81 दिन बंद रखने के बाद 11 जून से शुरू हुआ था सिंहेश्वर बाबा का जलाभिषेक

कोरोना संक्रमण को देखते हुए एक बार फिर से अगले दो माह के लिए बिहार के प्रसिद्ध सिंहेश्वर मंदिर को बंद किया जा रहा है। इस कारण से इस बार बिहार, यूपी और नेपाल से लाखों की संख्या में आने वाले श्रद्धालु श्रावण में जलाभिषेक नहीं कर पाएंगे। साथ ही भादो मास में भी बाबा का जलाभिषेक नहीं हो पाएगा। बताया गया कि 6 जुलाई से शुरू हो रहे श्रावणी मेला से एक दिन पूर्व पांच जुलाई को मंदिर परिसर काे पूरी तरह से सैनिटाइज कर पूरे परिसर को ही सील कर दिया जाएगा। ताकि किसी भी स्थिति में मंदिर ही नहीं मंदिर परिसर में श्रद्धालुओं का आगमन नहीं हो।     इसके साथ ही मजिस्ट्रेट और पुलिस बल की भी तैनाती कर दी जाएगी। विदित हो कि 21 मार्च से ही मंदिर में श्रद्धालुओं की पूजा पर रोक लगा दी गई थी। इसके बाद अनलॉक की प्रक्रिया शुरू होने पर 11 जून को 81 दिन के बाद श्रद्धालुओं के लिए खोल दिया गया था। बाबा के जलाभिषेक के लिए गेट पर अरघा भी लगा दिया गया था, ताकि गर्भगृह में श्रद्धालुओं के प्रवेश को रोका जा सके। लेकिन खासकर श्रावण मास की सोमवारी और भादो मास के रविवार को सिंहेश्वर मंदिर में उमड़ने वाली लाखों की भीड़ से सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराना पुलिस, प्रशासन और मंदिर की व्यवस्था से जुड़े लोगों के टेढ़ी खीर होते जा रहा था। 

पूजा समिति सदस्यों के सुझाव पर लिया निर्णय 
श्रावणी मेला काे लेकर मंगलवार काे डीएम नवदीप शुक्ला ने सिंहेश्वर मंदिर न्यास समिति के सभाकक्ष में न्यास के सदस्यों और विभिन्न विभागों के पदाधिकारियों के साथ बैठक की। सदस्यों का कहना था कि मेला के दौरान होने वाली अपार भीड़ को नियंत्रित करना और सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन करना अत्यंत दुरूह कार्य है। ऐसे में लाखों श्रद्धालुओं की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए पूरे परिसर को बंद किया जाना ही उचित है। इसके बाद डीएम ने बंदी पर सहमति दी। 

धार्मिक बोर्ड ने भी जारी की थी गाइडलाइन
6 जुलाई से शुरू होने वाले श्रावणी मेले को लेकर बिहार के सभी शिव मंदिरों के संबंध में बिहार राज्य धार्मिक न्यास परिषद ने दिशा-निर्देश जारी किया था। इसमें स्पष्ट रूप से कहा गया कि मंदिर के व्यवस्थापक, मंदिर न्याय समिति, जिला प्रशासन के साथ बैठक कर मंदिर को बंद करने का निर्णय ले सकते हैं। उदाहरण के तौर पर देवघर का बाबा बैद्यनाथ धाम, पूर्वी चंपारण के सोमेश्वर नाथ महादेव मंदिर आदि को बंद करने के निर्णय का भी जिक्र किया गया था।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज किसी समाज सेवी संस्था अथवा किसी प्रिय मित्र की सहायता में समय व्यतीत होगा। धार्मिक तथा आध्यात्मिक कामों में भी आपकी रुचि रहेगी। युवा वर्ग अपनी मेहनत के अनुरूप शुभ परिणाम हासिल करेंगे। तथा ...

और पढ़ें