छात्रों का बेहतर प्रदर्शन / कुलपति से पूर्व बीएसएस कॉलेज के रीडर बने थे डॉ. ज्ञानंजय द्विवेदी

X

  • जौनपुर यूपी के रहने वाले हैं बीएनएमयू के वीसी

दैनिक भास्कर

May 29, 2020, 05:00 AM IST

सुपौल. किसी भी शिक्षण संस्थान से छात्रों के बेहतर प्रदर्शन पर शिक्षण संस्थान खुद पर गौरवान्वित महसूस करता है। लेकिन शिक्षण संस्थान के शिक्षक ही अगर बेहतर करें तो उस संस्थान में और चार चांद लग जाता है। सुपौल जिला मुख्यालय स्थित भारत सेवक समाज कॉलेज के प्रोफ़ेसर डॉ. ज्ञानंजय द्विवेदी ने भूपेंद्र नारायण मंडल विश्वविद्यालय के कुलपति बनकर ना सिर्फ सुपौल जिले को गौरवान्वित किया। बल्कि बीएसएस कॉलेज के शिक्षकों को एक नया संदेश भी दिया। जौनपुर यूपी के रहने वाले डॉक्टर द्विवेदी बनारस हिंदू विश्वविद्यालय से एमए और पीएचडी की उपाधि हासिल की। 2 नवंबर 1982 को बीएसएस कॉलेज में लेक्चरर के पद पर नियुक्त हुए। 1990 तक लेक्चरर के पद पर रहने वाले डॉ. द्विवेदी 2 नवंबर 1990 को रीडर के रूप में नियुक्त किए गए। इसके बाद 1998 में यूनिवर्सिटी प्रोफेसर बने। फिर 7 मई 2009 से 24 जनवरी 2011 तक पीजी सेंटर सहरसा के प्रोफ़ेसर रहे। डॉ. द्विवेदी की लिखित पुस्तक कई विश्वविद्यालयों में चल रहा है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना