रोजा / 73 वर्ष में पहली बार ईदगाह में नहीं पढ़ी जाएगी ईद की नमाज

X

दैनिक भास्कर

May 24, 2020, 05:00 AM IST

सुपौल. कोरोना वायरस के संक्रमण के बढ़ते खतरे और लॉकडाउन की वजह से इस बार ईद की नमाज सामूहिक रूप से नहीं पढ़ी जाएगी। जिसके लिए मजलिस सुरा ईदगाह कमेटी ने गाइड लाइन भी जारी कर दिया है। ज्ञात हो कि पूर्व में ईद के मौके पर ईदगाह में करीब 15 हजार की संख्या में लोग एक साथ ईद की नमाज अदा करते थे। ईद को लेकर ईदगाह के इर्द-गिर्द का माहौल मेलानुमा रहता था। ईद मिलन समारोह को देखने के लिए काफी संख्या में लोग पहुंचकर मुसलमान भाईयों को ईद की बधाई देते थे। लेकिन लॉकडाउन के कारण इस बार 1953 के बाद अर्थात 73 वर्ष के इतिहास में पहली बार ईदगाह में लोग ईद की नमाज अदा नहीं कर सकेंगे। कमेटी द्वारा जारी निर्देश के अनुसार मस्जिदों में वहां के इमाम के साथ चार-पांच लोग ही शोसल डिस्टेंस का पालन करते हुए नमाज अदा करेंगे।
संक्रमण से बचाव को ले घरों में पढ़ें ईद की नमाज
बलुआ बाजार|लॉकडाउन को लेकर इस वर्ष लोगों में ईद को लेकर उमंग कम है। इसके बाद भी क्षेत्र में लोग ईद की खरीदारी को लेकर थोड़े बहुत घर से बाहर निकले और जरूरी सामान की खरीदारी की। वहीं, रमजान का 29वां रोजा शनिवार को पूरा हो गया। इसको लेकर उलेमाओं ने ईद का चांद देखने की अपील की है। शनिवार को चांद नजर आया या मुस्लिम इदारों से एलान हुआ तो रविवार को ईद मनाई जाएगी। चांद नजर नहीं आने पर सोमवार को ईद मनाई जाएगी। बलुआ बाजार थानाध्यक्ष बैजू कुमार, ललितग्राम ओपी प्रभारी शुभ नारायण तिवारी ने लोगों को आगामी त्यौहार ईद-उल-फितर के दृष्टिगत लोगों से मस्जिद में नमाज न पढ़कर फिजिकल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए घरों में नमाज पढ़ने के लिए कहा। लॉकडाउन और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने का निवेदन किया।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना