कार्रवाई:आरडीओ ने बलभद्रपुर पैक्स को किया सील

वीरपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जांच के बाद पैक्स खोलकर किसानों को दी जा रही खाद। - Dainik Bhaskar
जांच के बाद पैक्स खोलकर किसानों को दी जा रही खाद।
  • कृषि विभाग की टीम ने की जांच, कहा-अभी किसानों को खाद देने के लेकर प्रशासन गंभीर

बसन्तपुर प्रखंड के बलभद्रपुर पंचायत में स्थित पैक्स को आरडीओ ने सोमवार की शाम लोगो की शिकायत के आधार पर पहले जांच की और फिर स्टॉक मिलान के बाद 60 बोरी अधिक खाद पाए जाने पर तत्काल सील कर दिया। मंगलवार को जिला से आये कृषि विभाग की जांच टीम ने जांच कर कार्रवाई करते हुए किसानों को उनका खाद बंटवाया है। पूरे मामले को लेकर बसन्तपुर आरडीओ कुमार मनीष भारद्वाज ने बताया कि पूरा जिला प्रशासन अभी किसानों के खाद आपूर्ति को लेकर काफी गंभीर है और अलर्ट मोड में है। सोमवार को बलभद्रपुर पंचायत के कुछ किसानों के द्वारा डीएम सुपौल सहित आरडीओ से शिकायत की गई थी कि पैक्स अध्यक्ष बलभद्रपुर मो. शौकत के द्वारा किसानों को खाद नही दिया जा रहा है। इसके अलावे पैक्स को नही मिलने वाली खाद भी ऊंचे दामो में पैक्स के माध्यम से दी जा रही है। इसी शिकायत के आलोक में सोमवार की शाम पुलिस बल के साथ बलभद्रपुर पैक्स गोदाम की जांच की गई और स्टॉक का मिलान किया गया तो पाया गया कि 60 बोरी खाद अधिक मिला। हालांकि इस खाद के बाबत जब पैक्स अध्यक्ष से पूछ ताछ की गई तो पैक्स अध्यक्ष मो. शौकत आलम का कहना था कि ये सभी खाद की बोरियां किसानों की है और ई पाश मशीन से सभी किसानों का अंगूठे के निशान लिया जा चुका है। वावजुद संतुष्ट नही होने की स्थिति में आरडीओ ने तत्काल पैक्स गोदाम को सील कर आगे की कार्रवाई के लिए कृषि विभाग को पूरे मामले की जानकारी दी। जानकारी प्राप्त होते ही सहायक कृषि निदेशक पौधा संरक्षण सुपौल विजय रंजन बसन्तपुर पहुंचे और पूरे मामले की जानकारी लेने के बाद आरडीओ मनीष भारद्वाज व बसन्तपुर प्रखंड से जुड़े अन्य कृषि विभाग के लोगो के साथ मंगलवार को फिर से बलभद्रपुर पैक्स की जांच में जुट गए। सहायक निदेशक रंजन ने उन किसानों को बुलाया जिनके नाम पर खाद की उठाव की बात पैक्स अध्यक्ष के द्वारा बताई गई थी। किसानों ने स्वीकारा की गोदाम में रखी हुई खाद उन्ही लोगो की है। पैसा नही जमा करने के कारण उनके खाद का उठाव नही हो पाया था इसलिए तत्काल ई पाश मशीन पर अपना निशान लगाकर खाद गोदाम पर ही छोड़ गए थे।

खबरें और भी हैं...