कालाबजारी:अंधेरे में खाद ले जा रहे किसान को ग्रामीणों ने पकड़ा

मरौनाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • किसानों ने डीएम से की खाद की कालाबाजारी करने वाले दुकानदारों पर कार्रवाई की मांग

मरौना में खाद की किल्लत को लेकर किसान परेशान दिख रहे हैं। वही दूसरी ओर विभागीय कर्मियों की मिलीभगत से खाद विक्रेता द्वारा प्रखंड क्षेत्र में खाद की कालाबजारी धड़ल्ले से जारी है। सोमवार की रात करीब 11 बजे मरौना प्रखंड के हड़री पंचायत अंर्तगत गिदराही के समीप सुरक्षा बांध पर एक दर्जन से अधिक ग्रामीणों ने एक व्यक्ति को एक बोरा खाद के साथ पकड़कर नदी थाना पुलिस के हवाले कर दिया। जहां से पुलिस खाद के साथ पकड़े गए व्यक्ति को भी पूछताछ के लिए थाने ले गई। ग्रामीणों ने बताया कि दो रोज पहले कबीर हार्डवेयर मोरकियाही के विक्रेता द्वारा खाद का वितरण किया गया था। जिसमें दो सौ पैकेट की बात कह कर वितरण शुरू करवाया था, लेकिन वितरण के समय 150 सौ किसानों को ही खाद मिला था। वहीं किसानों को यह कहकर वापस किया गया था कि अब खाद समाप्त हो गया है। लेकिन रात में एक बोरी खाद के साथ एक व्यक्ति के पकड़े जाने पर ग्रामीणों ने आरोप लगाया कि जब खाद समाप्त हो गई थी, तब कबीर हार्डवेयर द्वारा कैसे 11 बजे रात को एक किसान को खाद दिया गया। इधर, खाद ले जा रहे झिंगवा निवासी भोगी लाल साह का कहना था कि जिस दिन खाद का वितरण हुआ था, उसी दिन जरूरी काम के चलते मैने खाद लेकर विक्रेता के दूसरे घर रख दिया था। उसी खाद को ले जा रहा था। लेकिन ग्रामीणों ने इस बात पर कहा कि जब खाद सही-सही खरीदा गया था तो फिर 11 बजे रात और खाद के बोरे को एक दूसरे सोन की बोरे में पैक करने का मतलब क्या था? उधर, ग्रामीणों ने खाद कालाबजारी करने वाले विक्रेताओं के विरुद्ध कार्रवाई करने की मांग जिलाधिकारी से की है।

वितरण के समय 200 की जगह 150 सौ को ही खाद मिली थी
इधर, नदी थाना अध्यक्ष रामनुज सिंह ने बताया कि ग्रामीणों द्वारा पकड़े गए खाद को थाना लाया गया है। किसान को पूछताछ कर फिलहाल छोड़ दिया गया है। संबंधित विभाग के निर्देश पर आगे की कार्रवाई की जाएगी। मामले काे लेकर जिला कृषि पदाधिकारी समीर कुमार ने कहा कि जांच के लिए बीएओ को कहा गया है। जो भी दोषी पाए जाएंगे, उनके विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी।

खबरें और भी हैं...