मामला / विद्यालय को फिर क्वारेंटाइन सेंटर बनाने का ग्रामीणों ने किया विरोध

Villagers protested to make the school a quarantine center again
X
Villagers protested to make the school a quarantine center again

  • 15 दिन पूर्व आए प्रवासी व 4 दिन पहले आए लोगों को एक साथ छुट्‌टी

दैनिक भास्कर

May 24, 2020, 05:00 AM IST

सुपौल. प्रखंड के परमानंदपुर पंचायत अंतर्गत वार्ड नंबर 5 स्थित मध्य विद्यालय परमानंदपुर हिंदी में क्वारेंटाइन हुए प्रवासियों को घर भेजने के बाद  विद्यालय खाली है। शुक्रवार को विद्यालय से प्रवासियों के घर चले जाने के बाद ग्रामीणों ने विद्यालय के मुख्य गेट को जाम कर विद्यालय के आगे जमकर हंगामा किया। स्थानीय ग्रामीण शिवनारायण मेहता, गणेश साह, मुश्ताक भाँट, जब्बार भाँट, शमशाद भाट जोगिंदर राम, अशर्फी राम, रामचंद्र राम, विद्यानंद राम, रामेश्वर राम, प्रकाश राम, चांदेश्वर राम, कपिलदेव राम, अब्बास भाँट, परवेज आलम, सरस्वती देवी, चंद्रकला देवी,डोमिनी देवी, ललिता देवी, लीला देवी आदि ग्रामीणों ने प्रवासी मजदूरों के लिए विद्यालय को पुनः क्वारेंटाइन सेंटर में तब्दील करने पर विरोध जताया है। 
ग्रामीण शिवनारायण मेहता गणेश साह आदि का कहना था कि 15 दिन पूर्व आए प्रवासी तथा 4 दिन पूर्व आए प्रवासियों को भी एक साथ हीं क्वारेंटाइन सेंटर से छुट्टी दे दी गई है, यानी क्वारेंटाइन सेंटर में 15 दिन बिताने वाले को भी तथा 4 दिन बिताने वाले को भी एक साथ हीं छुट्टी कर दी गयी है। जब 4 दिन में हीं प्रवासियों को क्वारेंटाइन से छुट्टी दे दी जाती है तो प्रवासियों को क्वारेंटाइन में रखने  का क्या मतलब है, प्रशासन को उन्हें सीधे होम क्वारेंटाइन हीं करने की व्यवस्था करनी चाहिए क्योंकि किसी भी विद्यालय में क्वारेंटाइन करने के बाद भी प्रवासी अपने घर आते जाते रहते हैं जिसके बाद प्रवासियों के क्वारेंटाइन होने का कोई मतलब नहीं रह जाता है। विद्यालय के गेट पर जमा हुए सभी ग्रामीणों ने  एक स्वर में विद्यालय को पुनः क्वारेंटाइन सेंटर  बनाने का पुरजोर विरोध किया है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना