आस्था:कलश स्थापित कर प्रथम दिन की गई मां शैलपुत्री की पूजा-अर्चना

निर्मली16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
दुर्गा मंदिर में पूजा के लिए उमड़े भक्त। - Dainik Bhaskar
दुर्गा मंदिर में पूजा के लिए उमड़े भक्त।

नवरात्र के प्रथम दिन गुरुवार को अनुमंडल क्षेत्र के मंदिरों में कलश स्थापना के साथ ही मां दुर्गा के प्रथम स्वरूप मां शैलपुत्री की पूजा अर्चना की गई। निर्मली शहर के मेन रोड स्थित दुर्गा मंदिर में सम्पूर्ण विधि विधान के साथ पंडित लाल बाबू झा व हरेश पांडेय ने मंत्रोच्चारण से पूजा-पाठ करवाया। कलश स्थापना व दोपहर आरती के समय पूजा समिति के अध्यक्ष किशोरी साह, सचिव जगरनाथ कामत व अन्य की देखरेख में श्रद्धालुओं ने कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करते हुए मां शैलपुत्री की पूजा की। बताया जाता है कि शरद ऋतु के आश्विन माह में आने के कारण इन्हें शारदीय नवरात्रों का नाम दिया गया है। नवरात्रि में मां भगवती के सभी 9 रूपों की पूजा अलग-अलग दिन की जाती है।प्रथम दिन मां शैलपुत्री की पूजा-अर्चना विधि-विधान से करने से मनोवांछित फलों की प्राप्ति होती है। वहीं नगर के लिंक रोड स्थित दुर्गा मंदिर सहित अन्य जगहों पर भी दुर्गा पूजा को लेकर भक्तों में उत्साह का माहौल दिखा।

खबरें और भी हैं...