कार्यक्रम:डॉ. राजेंद्र प्रसाद, नंदलाल बसु और खुदीराम बोस देश के 3 महान विभूति, इनसे सीख लें

तारापुर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
शुक्रवार को प्रखंड गेट पर पौधरोपण करते पदाधिकारी। - Dainik Bhaskar
शुक्रवार को प्रखंड गेट पर पौधरोपण करते पदाधिकारी।
  • जयंती पर याद किए गए प्रथम राष्ट्रपति, प्रख्यात चित्रकार और महान स्वतंत्रता सेनानी
  • खड़गपुर में जन्मे प्रसिद्ध चित्रकार नंदलाल बोस ने अपनी कूची से संविधान की मूलप्रति को संवारा, विदेशों में भी पाई ख्याति, लेकिन उनकी कला को भूल रहे लोग

भारत के तीन महान विभूति प्रथम राष्ट्रपति डॉ. राजेंद्र प्रसाद, महान चित्रकार नंदलाल बसु तथा स्वतंत्रता सेनानी खुदीराम बोस की जयंती अनुमंडल सभागार में एसडीओ रंजीत कुमार के नेतृत्व में मनाई गई। जिसमें मौजूद पदाधिकारी व अतिथियों ने तीनों महान विभूतियों के तैल्य चित्र पर पुष्पांजलि अर्पित कर उन्हें नमन किया। जयंती समारोह में मुख्य अतिथि वरिष्ठ पत्रकार चन्द्रशेखरम ने तीनों विभूतियों के जीवन चरित्र पर प्रकाश डालते हुए विस्तार पूर्वक चर्चा करते हुए इन्हें भारत माता का सपूत बताया। नंदलाल बोस के बारे में कहा कि खड़गपुर के रहने वाले कूची के जादूगर नंदलाल बोस ने अपने कला से विदेशों में भी ख्याति प्राप्त की। संविधान की मूल प्रति को उन्होंने अपनी कूची से संवारा। जिसमें सर्वप्रथम पहला चित्र अशोक स्तंभ को बताया, जो संविधान सभा के प्रति में सर्वोपरि रखा गया है। दूसरे नंबर पर प्रस्तावना में मोहनजोदड़ो हड़प्पा के समय का वृषभ का चित्रांकन किया गया है, जो संस्कृत एवं भारतीय प्राचीन सभ्यता का प्रतीक है।

तीनों महान विभूतियों के चित्र पर पुष्पांजलि करते एसडीओ।
तीनों महान विभूतियों के चित्र पर पुष्पांजलि करते एसडीओ।

खड़गपुर में कला निपुण लोग आज भी मौजूद: हरेकृष्ण
एसडीओ रंजीत कुमार ने कहा कि तीनों विभूति भारत के अनमोल रत्न थे। तीनों के द्वारा देश हित में किया गया कार्य श्रेयस्कर है। डीसीएलआर आदित्य कुमार झा ने कहा कि नंदलाल बोस के कला की बदौलत आज उन्हें विश्व के लोग याद करते हैं, लेकिन ये आज अपनी ही धरा पर उपेक्षित हैं। संचालन कर रहे समाजसेवी चंदर सिंह राकेश ने तीनों विभूतियों के जीवन चरित्र से युवाओं को सीख लेने की बात कही। कार्यक्रम के आयोजक तारापुर विधिज्ञ संघ के पूर्व अध्यक्ष हरे कृष्ण वर्मा ने कहा कि खड़गपुर में आज भी कला के क्षेत्र में निपुण लोग हैं। उनकी कलाकारी बड़े बड़े शहरों के नामी गिरामी चित्रकार से कम नहीं है। लेकिन इनकी कला को निखारने के लिए सरकार की ओर से कोई ठोस पहल नहीं किया जा रहा है।

पीपल व बरगद का पौधा भी लगाया गया| मौके पर रजिस्ट्रार सत्य प्रकाश अनंत, बीडीओ संजय कुमार, भाजपा नेता शंभूशरण चौधरी, शिव कुमार सिंह के अलावा अन्य वक्ताओं ने तीनों विभूतियों के सम्मान में अपने विचार रखे। मौके पर प्रखंड सह अंचल कार्यालय के मुख्य गेट से सटे पदाधिकारी द्वय व आगंतुक अतिथियों द्वारा पीपल व बरगद का पौधा लगाया गया।

खबरें और भी हैं...