जानकारी:भागलपुर के दर्जनों किसानों ने ली ड्रैगन फ्रूट की जानकारी

ठाकुरगंज9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
ठाकुरगंज में नगर स्थित ड्रेगन फ्रूट के खेत में किसानों का समूह। - Dainik Bhaskar
ठाकुरगंज में नगर स्थित ड्रेगन फ्रूट के खेत में किसानों का समूह।
  • दर्जनों किसानों ने अर्राबाडी कृषि विश्वविद्यालय में चल रहे प्रशिक्षण के लिए पहुंचे ठाकुरगंज
  • किसानों ने कहा- ड्रैगन फ्रूट की खेती कृषि क्षेत्र में लाएगी नई क्रांति

डॉ. कलाम कृषि विश्वविद्यालय अर्राबाड़ी में चल रहे चार दिवसीय आवासीय प्रशिक्षण में भाग ले रहे भागलपुर के दर्जनों किसानों का एक समूह गुरुवार को ठाकुरगंज पहुंचा। ठाकुरगंज में हो रहे ड्रैगन फ्रूट की खेती को देखते हुए खेती के संबंध में कई प्रायोगिक जानकारियां प्राप्त की। इस मौके पर आत्मा भागलपुर के अधिकारियों के साथ डॉ. कलाम कृषि विश्वविद्यालय अर्राबाड़ी के कृषि जानकार उपस्थित थे। जिन्होंने सभी प्रतिभागियों को विभिन्न जानकारी से अवगत कराया। टीम में शामिल आत्मा भागलपुर के रामेश्वर कुमार सिंह ने बताया की देश के विभिन्न भागों में पिछले कुछ समय से किसानों का कहना है कि खाद, उर्वरक, बीज, डीजल, बिजली और कीटनाशकों के महंगे होते जाने से खेती की लागत बढ़ती जा रही है साथ ही हमें उपज का सही मूल्य नहीं मिल रहा है। इस समस्या के समाधान के लिए बजट 2018-19 में सरकार ने किसानों को उत्पादन लागत का डेढ़ गुना कीमत देना तय किया है। इसके अलावा खेती को मजबूत करने व किसानों को उनकी उपज का बेहतर मूल्य दिलाने की दिशा में सरकार ने हाल ही में कई कदम उठाये है। जिससे किसानों की आय में बढ़ोत्तरी हो। कृषि जोखिम में कमी हो। ग्रामीण क्षेत्रों में रोजगार के अवसर बढ़े। कृषि क्षेत्र का निर्यात बढ़े। ग्रामीण जीवन की गुणवत्ता में सुधार हो। इसके अलावा कृषि का बुनियादी ढांचा विकसित हो। इसी को लेकर यह कार्यक्रम आयोजित किया गया। उन्होंने कहा की ड्रेगन फ्रूट की हो रही खेती आने वाले समय में सूबे में कृषि क्रांति के संकेत मानी जा रही हैं। उन्होंने कहा की कृषि के मामले में वे ही किसान सफल हो सकते है जो प्रयोगों में विश्वास करते है। इस दौरान लोगो ने खेती में पड़ने वाली लागत एवं बाजार में इसके मूल्य की जानकारी ली। इस दौरा आत्मा सुल्तानगंज के रवि और आत्मा सबौर के नेहा कुमारी गुप्ता के साथ कृषक उत्पादक समूह के किसानो के साथ आम किसान भी उपस्थित थे।

खबरें और भी हैं...