पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कोरोना से जीती जंग:ड्यूटी पर लौटे व बोले-संकल्प से कोरोना को हराया

ठाकुरगंज12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • ठाकुरगंज अस्पताल में तैनात डॉक्टर बोले-नियमों का पालन कर महामारी को अासानी से मात दें
  • 20 अप्रैल को संक्रमित हुए थे डॉ. अखलाकुर

इस महामारी में वीर योद्धा की तरह कार्य करने वाले चिकित्सक व कर्मियों ने भी अपने कर्तव्य पथ अग्रसर रहते हुए अपने जान की बलि दी है। लेकिन कुछ योद्धा ऐसे है जिन्होंने कोरोना को मात देकर लोगों के बचाव में लगे हैं। इनसे लोगों को भी महामारी से लड़ने व मात देने की प्रेरणा व हिम्मत मिल रही है। ठाकुरगंज अस्पताल में तैनात चिकित्सक डाॅ अखलाकुर ने कोरोना को मात देकर रविवार को ठाकुरगंज अस्पताल में डूयूटी ज्वाइन करते ही लोगों की जांच व इलाज करने लगे हैं। डाॅ. अखलाकुर का कहना है कि 20 अप्रैल को वे कोरोना संक्रमित हो गये थे। उसके बाद स्वयं को आइसोलेट करते हुए नियमों का पालन आरंभ किया। उसके साथ दवा का भी सेवन आरंभ किया। सबसे पहले अपनी मनोस्थिति को मजबूत करते हुए स्वयं को समझाया कि हर-हाल में कोरोना को हराना है। नियमों के पालन करते हुए कुछ ही दिनों में स्वस्थ महसूस करने लगा। उन्होंने कहा कि लोग दृढ़ निश्चय से नियमों का पालन करें तो महामारी को असानी से मात दिया जा सकता है।

वैक्सीन की डोज लेने के बाद भी सतर्क रहने की आवश्यकता : रहमान
श्री रहमान ने बताया कि टीका का पहला डोज लेने के बाद लोगो के इलाज करते-करते संक्रमित हो गये थे। महामारी को मात देने के लिए गर्म भोजन के साथ आधे घंटे का व्यायाम अवश्य करें। जहां तक हो महामारी सबंधित कोई भी भयावह जानकारी देखने व सुनने से बचे। दवा का सेवन चिकित्सक के सलाह से करे। शंका होने पर अवश्य जांच कराये। ताकि आपके कारण आपके परिवार व प्रियजन इसका शिकार न बने। ठंडे व बासी खानो से परहेज करें। अधिक से अधिक उन लोगो की बाते सुने या कहानी पढे जो प्रेरणादायक हो। क्योंकि इस महामारी में आशावादी बाते भी किसी विटामिन से कम काम नही करती है। उन्होंने लोगों से अपील किया कि नियमों के साथ टीका अवश्य लगाये। क्योंकि नियमों के पालन के साथ टीका से ही कोरोना को हराया जा सकता है।

खबरें और भी हैं...