पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पर्व:त्याग व बलिदान का पर्व बकरीद सद्भाव पूर्ण संपन्न

त्रिवेणीगंज8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

बलिदान, त्याग और समर्पण का पर्व बकरीद शांति एवं सद्भाव पूर्ण वातावरण में बुधवार को संपन्न हुआ। ग्रामीण क्षेत्रों में मुस्लिम समुदाय के लोगों ने पूरी अकीदत के साथ पर्व मनाया और अपने-अपने घरों में नमाज अदा की। इस समुदाय की महिलाओं ने भी अपने घरों में अल्लाह की इबादत की। नमाज के बाद मुल्क की खुशहाली और तरक्की की दुआ की। अनुमंडल क्षेत्र में विधि व्यवस्था को लेकर 50 से अधिक स्थानों पर दंडाधिकारी के नेतृत्व में पुलिस बल व चौकीदार की तैनाती की गई थी। कोविड़ 19 को लेकर पर्व के दौरान उत्साह में कमी देखी गई। डॉ जेडए रहमान बताते हैं कि बकरीद का पर्व कुर्बानी के लिए याद किया जाता है। इस दिन इस्लाम से जुड़ा हर शख्स खुद के सामने सबसे प्यारी चीज को कुर्बान करता है। इसे ईद-उल-अजहा के नाम से जाना जाता है। दूसरी तरफ ईद-उल-बजहा के दो संदेश हैं। जिसमें पहला परिवार के बड़े सदस्य को स्वार्थ के परे देखना चाहिये और खुद को मानव की सेवा में लगाना चाहिए। कुरान में लिखा है कि हमने तुम्हे हॉज-ए-कोसा दिया तो तुम अपने अल्लाह के लिये नमाज पढ़ो और कुर्बानी करो।

खबरें और भी हैं...