पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कार्रवाई:चौसा पूर्वी के डीलर ब्रह्मदेव का लाइसेंस रद्द, गोदाम में 100 क्विंटल अनाज कम

उदाकिशुनगंज11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • चौसा के आपूर्ति पदाधिकारी से अलग-अलग बिंदुओं पर दो बार कराई गई जांच
  • डीलर ने बीएसओ को दिया था धौंस, लाभुकों को दूसरे डीलर से दिलाया जाएगा अनाज

लाभुकों को निर्धारित मात्रा में अनाज नहीं देना और शिकायत करने पर आपूर्ति पदाधिकारी से भी बदतमीजी से बात करना अनुमंडल क्षेत्र के चौसा पूर्वी पंचायत के डीलर ब्रहमदेव गुप्ता को भारी पड़ गया। दैनिक भास्कर में इससे संबंधित खबर लगातार प्रकाशित होने के बाद एसडीएम राजीव रंजन सिन्हा ने चौसा के आपूर्ति पदाधिकारी की रिपोर्ट के आधार पर डीलर का लाइसेंस रद्द कर दिया।

इसके साथ ही आपूर्ति पदाधिकारी को निर्देश दिया गया है कि रद्द लाइसेंस वाले डीलर से संबंधित लाभुकों को आस-पास के डीलर की दुकान से टैग करने का प्रस्ताव दिया जाए। साथ ही अगर रद्द लाइसेंस वाले डीलर के गोदाम में सरकारी अनाज है, तो टैग वाले डीलर के माध्यम से उसे बंटवाकर राशि रद्द लाइसेंस वाले डीलर को हस्तगत करा दी जाए। विदित हो कि विधानसभा चुनाव के दौरान उक्त डीलर पर एक लाभुक ने निर्धारित मात्रा में अनाज नहीं देने का आरोप लगाकर आपूर्ति पदाधिकारी से शिकायत की थी।

इसके बाद जब पीड़ित के मोबाइल से आपूर्ति पदाधिकारी ने डीलर से बात की तो डीलर ब्रह्मदेव गुप्ता ने आपूर्ति पदाधिकारी से साफ तौर पर कहा कि उसका लाइसेंस भले रद्द कर दीजिए पर वह निर्धारित मात्रा में अनाज लाभुकों को नहीं देगा।

ऑडियो सामने आने के बाद हुई मामले की जांच
खबर छपने के बाद इस मामले की जांच दो बार कराई गई। उदाकिशुनगंज के एसडीएम राजीव रंजन सिन्हा द्वारा जारी आदेश पत्र में कहा गया है कि 11 दिसंबर को मधेपुरा दैनिक भास्कर में प्रकाशित खबर एवं प्रखंड आपूर्ति पदाधिकारी चौसा से दूरभाष पर चौसा पूर्वी के डीलर ब्रह्मदेव गुप्ता के बीच बातचीत का ऑडियो सामने आने के बाद मामले की जांच कराई गई। आपूर्ति पदाधिकारी ने जांच रिपोर्ट में निर्धारित मात्रा से कम अनाज देना, बदले में अधिक राशि वसूली करना, लाभुकों को कैशमेमो नहीं देना, लाभुकों से अभद्र व्यवहार करना एवं कुछ लाभुकों को पीएमजीकेएवाय योजना का मुफ्त अनाज नहीं देने का जिक्र किया था। दूसरी बार की जांच में डीलर के गोदाम में अनाज भी कम पाया गया।

डीलर ने कहा-आवेश में बोल दिए थे
दूसरी ओर, एसडीएम ने जब डीलर से शो-कॉज पूछा तो उसका जवाब भी मजेदार था। डीलर का कहना था कि लाभुक अनिल यादव द्वारा तंग व परेशान करने एवं उक्त आलोक में आवेश में की गई बात का ऑडियो रिकॉर्डिंग वायरल कर दिया गया। डीलर ने कई बार जिक्र किया था कि उसका लाइसेंस रद्द करना है तो कर दें पर वह पूरा अनाज नहीं देगा। वह बिहार का रूल नहीं तोड़ सकता है। विक्रेता द्वारा कोई साक्ष्य समर्पित नहीं किया गया। जांच की प्रक्रिया के दौरान कल्पना देवी एवं अन्य लाभुकों ने डीलर पर निर्धारित मात्रा से कम अनाज देने की शिकायत की गई थी।

71.97 क्विंटल चावल व 27.22 क्विंटल गेहूं कम
एसडीएम ने बीएसओ को दूसरी बार डीलर के तीन माह के आवंटन, उठाव, वितरण की गहन जांच रिपोर्ट देने को कहा। दूसरी बार की जांच रिपोर्ट में बीएसओ ने कहा कि अगस्त 2020 से नवंबर 2020 तक उठाव, वितरण, अवशेष भंडार की जांच के क्रम में 87. 22 क्विंटल के विरुद्ध 60 क्विंटल गेहूं एवं 141. 97 क्विंटल के विरुद्ध मात्र 70 क्विंटल चावल ही भंडार के भौतिक सत्यापन में पाया गया। जबकि केराेसिन का भंडार पंजी विक्रेता ने नहीं दिया। जो वितरण पंजी उपलब्ध कराई गई थी वह भी आपूर्ति पदाधिकारी से सत्यापित नहीं थी। साथ ही वितरण पंजी में केराेसिन की मात्रा एवं दर का उल्लेख नहीं था। इस तरह से भौतिक सत्यापन में 71.97 क्विंटल चावल एवं 27.22 क्विंटल गेहूं कम पाया गया। इन सब आरोपों को लेकर एसडीएम ने चौसा पूर्वी के डीलर ब्रह्मदेव गुप्ता की अनुज्ञप्ति संख्या 39/07 को तत्काल प्रभाव से रद्द कर दिया।

कम अनाज देने पर होगी कड़ी कार्रवाई
लाभुकों को निर्धारित मात्रा में ही अनाज व केरोसिन देना है। अधिक रुपए लेने और कम अनाज देने की शिकायत पर डीलर के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। आरोप जांच में सत्य पाए जाने पर चौसा पूर्वी के डीलर ब्रह्मदेव गुप्ता का लाइसेंस रद्द कर दिया गया है।
राजीव रंजन सिन्हा, एसडीएम, उदाकिशुनगंज

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- व्यस्तता के बावजूद आप अपने घर परिवार की खुशियों के लिए भी समय निकालेंगे। घर की देखरेख से संबंधित कुछ गतिविधियां होंगी। इस समय अपनी कार्य क्षमता पर पूर्ण विश्वास रखकर अपनी योजनाओं को कार्य रूप...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser