आस्था / कोरोना संकट के बीच व्रतियों ने घर के गमले में वट वृक्ष की टहनी लगाकर की पूजा, सुनी कथा

In the midst of the Corona crisis, Vratis worshiped by planting a branch of Vat tree in the house pot, heard the story
X
In the midst of the Corona crisis, Vratis worshiped by planting a branch of Vat tree in the house pot, heard the story

  • लॉकडाउन के बीच बट वृक्ष के नीचे सोश्ल डिस्टेंसिग के साथ पूजा कर की पति के लंबी उम्र की कामना

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 05:00 AM IST

किशनगंज. पूरे जिले मे शुक्रवार को उल्लासपूर्वक मनाया गया वट सावित्री का त्योहार। कोरोना संक्रमण को लेकर हुए लॉकडाउन के कारण श्रद्धालु महिलाएं अहले सुबह ही कथा का श्रवण करते हुए पूजा-अर्चना की। मंदिर परिसर या बरगद पेड़ के नीचे भीड़ जमा न हो इसके लिए कई सुहागिन महिलाओं ने अपने घरों में पहले से पूरी तैयारी कर रखी थी।

घर पर ही सुहागिनों ने मिट्टी के गमला व प्लास्टिक के गमले में बरगद की पत्ते लगी टहनी लगाकर पूरे विधि-विधान के साथ आस्था व श्रद्धा के साथ सावित्री व सत्यवान की कथा का श्रवण करते हुए अपने पति के लंबी उम्र की कामना की। अहले सुबह सार्वजनिक स्थलों पर पूजा-अर्चना करने पहुंची कई सुहागिनों ने बताया कि यहां भीड़ लगने के डर से पुरोहित पूजा-अर्चना कराने नहीं पहुंचे तो उन्होंने मोबाइल पर ही वट सावित्री की कथा का श्रवण कर पूजा-अर्चना की।

वहीं पुरोहित भास्कर मिश्रा ने बताया कि भीड़ वाली जगहों पर कोरोना संक्रमण का खतरा को देखते हुए श्रद्धालुओं को मोबाइल से कथा सुनकर पूजा करने की सलाह दी है। उधर, पोठिया प्रखंड के विभिन्न इलाकों में महिलाएं सुबह से ही सज-धज कर बरगद के पेड़ के पास पूजा करने पहुंचीं। प्रखंड के पोठिया बाजार, तैयबपुर, छत्तरगाछ आदि इलाकों में मौजूद कई वट वृक्षों के पास इस दौरान महिलाओं की काफी भीड़ रही।

सुबह धूप कम रहने की वजह से अधिकतर महिलाओं के द्वारा पूजा अर्चना की गई। सुबह के 10 बजते ही मौसम ने अपना मिजाज बदला जिसके बाद हल्की-हल्की बारिश होने लगी, परन्तु बारिश के असर से दूर महिलाएं वट वृक्ष की पूजा करती दिखीं।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना