लापरवाही:अतिक्रमणकारियों पर 24 घंटे में केस दर्ज कराने का निर्देश लेकिन एचएम से थानाध्यक्ष ने नहीं लिया आवेदन

उदाकिशुनगंज2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
लक्ष्मीपुर स्कूल में प्रदर्शन करते ग्रामीण। - Dainik Bhaskar
लक्ष्मीपुर स्कूल में प्रदर्शन करते ग्रामीण।
  • उत्क्रमित मध्य विद्यालय लक्ष्मीपुर का मामला, लोगों ने कहा- मांंग पूरी होने तक बच्चे नहीं भेजेंगे स्कूल

उत्क्रमित मध्य विद्यालय लक्ष्मीपुर का मामला तूल पकड़ता जा रहा है। ग्रामीण अतिक्रमण की गई जमीन व हाईस्कूल की मांग को लेकर अडिग हैं। सीओ की भूमिका पर भी सवाल उठाया जा रहा है। कई दिनों से लक्ष्मीपुर के ग्रामीण आंदोलन कर हाईस्कूल निर्माण की मांग कर रहे हैं। मामले को बढ़ता देख डीईओ वीरेंद्र नारायण ने बीईओ को निर्देश दिया है कि अतिक्रमणकारियों पर केस दर्ज करवाएं। बीईओ ने विद्यालय की एचएम पूनम यादव को पत्र जारी करते हुए 24 घंटे में केस दर्ज कराने को कहा। लेकिन एचएम से उदाकिशुनगंज थाना आैर सीओ आवेदन लेने से इनकार कर दिया। कहा कि उक्त जमीन का पर्चा रसीद किस प्रकार से कटाया गया है। सीओ के द्वारा भी प्रमाण मंगा गया। मामला अब शिक्षा विभाग और ग्रामीणों की मांग के बीच फंस गया है। इधर ग्रामीण उत्क्रमित मध्य विधालय लक्ष्मीपुर के गेट पर धरना प्रदर्शन कर एचएम के खिलाफ नारेबाजी कर रहे हैं। दूसरी ओर, नागेंद्र यादव जहां खुद के पास केवाला होने का दावा कर रहे हैं, तो एचएम पुलिस का सहारा ले रही हैं। ग्रामीणों का कहना है कि आठ-नौ माह पूर्व अतिक्रमणमुक्त करने का नोटिस भी प्राप्त हुआ था। लेकिन केवाला का दावा करने वाले लोग एचएम के सगे-संबंधी है। इसलिए वह चुप्पी साधे हुई हैं। जबकि जिस जमीन पर विद्यालय बनाने की बात हो रही है, वह जमीन शिक्षा विभाग के नाम से है। उसी नाम से रसीद भी कई वर्षों से कट रहा है। अब ग्रामीणों ने कहा है कि जबतक यह फैसला नहीं हो जाता तब तक वे लोग अपने बच्चों को विद्यालय नहीं भेजेंगे। उपरोक्त जमीन पर हाईस्कूल का निर्माण होना चाहिए। जरूरत पड़ी तो एचएम के ट्रांसफर की भी मांग करेंगे। एचएम पूनम यादव ने कहा कि जमीन का मामला जांच का विषय है। शिक्षा विभाग के पदाधिकारियों को मामले की जांच करनी चाहिए कि उक्त जमीन शिक्षा विभाग की है या किसी अन्य व्यक्ति की। प्रत्येक बातों को ध्यान में रखते हुए बिंदुवार तरीके से जांच की जानी चाहिए।

खबरें और भी हैं...