कवि सम्मेलन:आबादी बढ़ी पर मनुष्य घटा है... ने बटोरी तालियां

वीरपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
वीरपुर के पर्रा में आयोजित कवि सम्मेलन में उपस्थित कविगण। - Dainik Bhaskar
वीरपुर के पर्रा में आयोजित कवि सम्मेलन में उपस्थित कविगण।
  • रौशनी मुस्कुराती रही रात को आजमाती रही, चुप रहे लब हमेशा मगर रूह तो गुनगुनाती रही

वीरपुर प्रखंड के पर्रा में काली पूजा को ले आयोजित मेला में शुक्रवार की रात्रि विराट कवि सम्मेलन का आयोजन किया गया। इस सम्मेलन की अध्यक्षता वरिष्ठ कवि अशांत भोला ने की। संचालन कवि डॉ सच्चिदानंद पाठक ने किया। इस अवसर पर सम्मेलन का शुभारंभ कवियों व स्थानीय ग्रामीणों ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्ज्वलित कर किया।

इस सम्मेलन का शुभारंभ करते हुए कवि डॉ. रामा मौसम ने रौशनी मुस्कुराती रही रात को आजमाती रही, चुप रहे लब हमेशा मगर रूह तो गुनगुनाती रही की प्रस्तुति कर दर्शकों की वाहवाही ली। वहीं कवि शेखर सावंत ने न हिन्दू हैं न मुसलमान हैं हम अपने वतन की शान हैं हम, सारी आबोहवा को प्रेम में रंग देंगे बदलते वक्त की पहचान हैं हम की प्रस्तुति कर दर्शकों की तालियां बटोरी।

इहो उमर में काका अलगट तीन महला फायन गेलै
कवि प्रफुल्ल मिश्रा ने इंसानियत को भूलकर जब मजहब की बात हो, तो मुझे काबा, काशी, मदीना अच्छा नहीं लगता की प्रस्तुति कर साम्प्रदायिक सौहार्द की बात की। वहीं कवि विनोद ने मां-बाप के दर्द को भला वो क्या जाने, जो इश्क़ मोहब्बत में जां-निसार करते हैं की प्रस्तुति कर नई पीढ़ी को दिशा देने का प्रयास किया।

हास्य कवि विजेता मुदगलपुरी ने कि कहियो छड़पन काका के सभ्भे लोहा मान गेलै, इहो उमर में काका अलगट तीन महला फ़ायन गेलै की प्रस्तुति कर बिहार में मैट्रिक परीक्षा पर टिप्पणी की। कवि आलोक रंजन ने हो बड़ी कोई हवेली या हो कोई झोपड़ी घर मगर ऐसा हो जिसमें धूप आनी चाहिए की प्रस्तुति दी। कवि डॉ सच्चिदानंद पाठक की आश्चर्यजनक आंकड़ों से देश पटा है, आबादी बढ़ी है पर मनुष्य घटा है पर दर्शकों ने खूब तालियां बजाई।

शायद तुझे भरम होता है... भारतवासी नरम होता है
वरिष्ठ कवि अशांत भोला की कविता शायद तुझे भरम होता है भारतवासी नरम होता है, ऐ दोस्त तुझे मालूम नहीं, लोहा देर से गरम होता है की भी दर्शकों ने सराहना की। कार्यक्रम के दौरान सभी कवियों को आयोजक द्वारा सम्मानित किया गया। मौके पर कवि कुमार विनोद, ग्रामीण धर्मेंद्र कुमार, अरुण झा, निशांत झा, ऋषव कुमार, अनिकेत कुमार, संजय सिंह आदि मौजूद थे। धन्यवाद ज्ञापन देवेन्द्र झा ने किया।

खबरें और भी हैं...