सामाजिक जागरुकता:गानों के जरिए भोजपुर के अजीत अमन देशभर में पहुंचा रहे सामाजिक जागरुकता

आरा9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

सस्ते में जा रही है जान, मैया हो बचा लो मेरी प्राण। नौ माह से था इंतजार, सिस्टम ने ले ली मेरी जान। क्या गलती थी मां, दुनिया छूट गई। यह भावुक गीत इन दिनों लोगों में सोशल मीडिया पर खूब पसंद किया जा रहा है।इस गीत को भोजपुर जिला के चरपोखरी थाना के धनौती गांव निवासी अजीत अमन ने गाया है। इस एलबम गीत को देश और विदेश से भी प्रतिक्रिया मिल रही है।इस गीत के माध्यम से लोग स्वास्थ्य सिस्टम को सरकार से दुरुस्त करने की मांग कर रहे है।

इस गीत में स्वास्थ्य सिस्टम के शिकार हुई मांओ की पीड़ा दिखाया गया है। अपनी आंसुओं के जरिए अपने बच्चे के लिए अपनी-अपनी पीड़ा बयां करती हुई मां को दिखलाया गया है। गायक अजीत अमन ने कहा कि देश के स्वास्थ्य व्यवस्था काफी लचर है। जिसके माध्यम से गर्भ में पल रहे शिशुओं की मौत इलाज के अभाव में हो जाती है। इस मुहिम को आगे बढ़ाने का कार्य वे पूरी अपनी टीम के साथ करेंगे।

उन्होंने बताया कि इस गीत को देश के वर्तमान स्वास्थ्य सिस्टम के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए बनाया गया है। ताकि देश की सिस्टम सुधरें और जच्चा-बच्चे की मौत कम से कम हो सकें। उन्होंने बताया की बहुत जल्द ही सामाजिक मुद्दे से जुड़ी दूसरी गीत भी रिलीज होने वाली है।

इस एलबम के प्रोड्यूसर नेहिश सॉफ्टवेयर सोल्यूशन के चेयरमैन अवनीश श्रीवास्तव है। उन्होंने बताया कि इस मुद्दे पर जल्द ही फिल्म निर्माण करेंगे। वहीं इसके गीत अमित तिवारी तथा निर्देशन तिरियो मीडिया प्रा. लि. के चेयरमैन सूर्या सिंह हेंब्रम ने किया है।

अजीत अमन को शहीद विपिन रावत और रतन टाटा के गीत खुब हुए थे वायरल
चर्चित गायक अजीत अमन ने इससे पूर्व लगातार अलग अलग विषय पर एलबम निकाल रहे है।वे भारत के पहले रक्षा प्रमुख जनरल बिपिन रावत की याद में व टाटा समूह के अंतरिम चेयरमैन रतन टाटा पर भी गीत गा चुके हैं, जिसे देशभर में खूब सराहा गया था।

खबरें और भी हैं...