जागरूकता कार्यक्रम:रसोई गैस जलाने के लिए सिखाए गए सुरक्षित तरीके

बिहिया14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

सरस्वती शिशु मंदिर में सुरक्षित व संरक्षित ईंधन जलाने का गुर सिखाने के लिए जागरूकता कार्यक्रम हुआ। इसमें अमराई इंडेन द्वारा विद्यालय के बच्चियों और अध्यापिका को सुरक्षित विधि से ईंधन का इस्तेमाल करने की विधि बताया गया।

सोनू कुमार ओझा ने बताया कि हमलोग एलपीजी सिलेंडर इस्तेमाल करते हैं यह अत्यंत ज्वलनशील गैस है। हमें सिलिंडर प्राप्ति समय वेंडर से जांच कर प्राप्त करना चाहिए। उपयोग के पहले इसे सूंघकर जांचना चाहिए। अगर गंध महसूस हो, तो कैप बंद कर दें और नजदीक के इंडेन कार्यालय से संपर्क कर जानकारी दें। कमरे के खिड़की व दरवाजे खोल दें।

सिलेंडर को चूल्हे से नीचे रखें। चूल्हे को ज्वलनशील उपकरण पर कभी मत रखकर उपयोग करें। उपयोग करते समय सुती वस्त्र ही धारण करें। गैस की बर्बादी को रोकने के लिए बनायी जाने बाली खाद्य सामाग्री एक जगह रख लें। बार-बार सिलेंडर बंद चालू न करें।

बड़े आयोजनों में कमर्शियल सिलिंडर उपयोग करें। अगर कभी सिलेंडर में आग पकड़ ले तो उसके ऊपर भीगा कंबल से ढंक दे या बालू का छिड़काव करें। इस मौके पर विद्यालय के प्राचार्य सुजीत कुमार सिन्हा, आचार्य सुरेंद्र प्रसाद, संतोष कुमार, अखिलेश्वर प्रसाद ओझा आदि मौजूद रहे।

खबरें और भी हैं...