भ्रष्टाचार का आरोप:योजनाओं में अनियमितता पर मुखिया बोलीं- गलत आरोप है

तरारी9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
करथ पंचायत में अनियमितता की जांच का आवेदन देकर लौटते अनिल। - Dainik Bhaskar
करथ पंचायत में अनियमितता की जांच का आवेदन देकर लौटते अनिल।

करथ पंचायत में विकास कार्यों में घोर भ्रष्टाचार और योजनाओं की राशि की गबन करने का आरोप करथ निवासी समाजसेवी अनिल सिंह ने वर्तमान मुखिया नीलम देवी पर लगाया है। अनिल ने प्रखंड कार्यालय में आवेदन देकर अधिकारियों से एक सप्ताह के अंदर जांच करने एवं करवाई की मांग की है।

लिखित आवेदन के अनुसार ई ग्राम स्वराज पोर्टल से ली गयी जानकारी के अनुसार कुएं के निर्माण एवं जीर्णोद्धार पर 36 लाख 9 हजार रुपये, सात निश्चय योजना के तहत नल-जल के प्रत्येक वार्ड में 25 से 32 लाख तक, पोखरा निर्माण में 40 लाख तक, छठ घाट पर 12 लाख, शवदाहगृह पर 16 लाख, सार्वजनिक शौचालय पर 13 लाख, फेभर ब्लॉक पर पचीस लाख, तरल अवशिष्ट प्रबंधन पर 23 लाख, यात्री शेड के निर्माण पर 2 लाख, खेल के मैदान और जिम पर एक लाख, मिट्टी भराई, नाली निर्माण, ईट सोलिंग और पीसीसी पर लगभग एक करोड़ की राशि का काम दर्शा रहा है जो धरातल पर बिल्कुल नही हुआ है।

जबकि ऑन रिकॉर्ड सबमिट हो चुका है। अनिल सिंह ने अधिकारियों से जांच कर करवाई की मांग की है। करथ निकासी रामाधार राम, जितेंद्र सिंह, नीरज कुमार तिवारी, अजय कुमार राम, सुनील कुमार,शंकर तिवारी,अमित कुमार ने कहा कि ई ग्राम स्वराज पोर्टल के अनुसार पंचायत के योजनाओं के क्रियान्वयन में भारी लूट की गई है।

मुखिया ने कहा- छवि खराब करने के लिए लगाया गलत आरोप
दूसरी ओर मुखिया नीलम देवी ने बताई कि आरोप बिल्कुल ही झूठा और गलत है। कहा कि अक्सर झूठा आरोप लगाकर प्रतिष्ठा धूमिल करने की कोशिश की जाती है।

खबरें और भी हैं...