भास्कर एक्सक्लूसिव:111.51 करोड़ रुपए की लागत से डुमरांव में बनेगा बाईपास

डुमरांव13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
प्रस्तावित बाईपास सड़क। - Dainik Bhaskar
प्रस्तावित बाईपास सड़क।

डुमराव में बाईपास सड़क के अभाव में हर दिन लगने वाले जाम की खबर दैनिक भास्कर द्वारा प्रमुखता से प्रकाशित करने तथा स्थानीय विधायक डॉ. अजीत कुशवाहा द्वारा सदन में इस मुद्दे को उठाने के बाद शहर को बाईपास सड़क की सौगात मिल गई है। सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय ने एनएच 120 पर टेढ़की पुल से एनएच 84 पर स्थित पुराना भोजपुर तक 5.3 किलोमीटर लंबी बाईपास सड़क निर्माण की स्वीकृति दी है।

इसमें कुल 111.51 करोड़ की राशि खर्च होगी। स्वीकृति मिलने का साथ नहीं है भूमि अधिग्रहण की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। यह बाईपास सड़क पुराना भोजपुर, खिरौली, महरौरा, बनकट तथा डुमरांव मौजा से होकर गुजरेगी। इसकी स्वीकृति मिलने के साथ ही निविदा की प्रक्रिया भी पूरी कर ली गई है। जल्दी बाईपास सड़क मूर्त रूप लेने लगेगी। बाईपास सड़क निर्माण मिलते ही अनुमंडल वासियों में हर्ष की लहर दौड़ गई है।

दो दशक से बाईपास निर्माण की उठ रही थी मांग
शहर में पिछले दो दशक से बाईपास सड़क निर्माण की मांग उठाई जा रही थी। लेकिन किसी भी स्तर पर इसे गंभीरता से नहीं लिया गया था। बाईपास सड़क का निर्माण नहीं होने से शहर में जाम की समस्या नासूर बन गई थी। बाईपास के अभाव में ही दिन में नो एंट्री लागू किया गया था।

लगातार इस मुद्दे को प्रमुखता से उठाया
गौरतलब है कि दैनिक भास्कर इस मुद्दे पर लगातार अभियान चला रहा था। जबकि स्थानीय विधायक डॉ अजीत कुशवाहा भी सदन में इस मुद्दे को गंभीरता से उठा चुके हैं। इस आशय की जानकारी देते हुए विधायक ने बताया कि डुमरांव में बाईपास सड़क निर्माण की स्वीकृति मिल चुकी है। उन्होंने कहा कि उनके द्वारा सदन में उठाए गए प्रश्न के बाद सरकार ने बाईपास निर्माण की स्वीकृति दी है।

क्यों जरूरी है बाईपास सड़क

पिछले दो दशक में शहरी क्षेत्र में तेजी से आबादी बढ़ी है। कई नई कालोनिया भी अस्तित्व में आ गई है। एक अनुमान के मुताबिक इस दौरान शहर की आबादी तीगुनी से भी अधिक हो गई है। वही वाहनों की संख्या में भी बेतहाशा वृद्धि हुई है। पिछले एक दशक में ही वाहनों की संख्या 4 से 5 गुना अधिक हो गई है। जबकि सड़क की चौड़ाई एक इंच भी नहीं बढ़ पाई है। डुमरांव की अधिकांश आबादी मुख्य पथ स्टेशन रोड के दोनों किनारे बसी है। जिस कारण शहरी क्षेत्र में स्टेशन रोड की चौड़ाई बढ़ाना संभव नहीं है। यही कारण है कि बाईपास सड़क डुमरांव के लिए जरूरी बन गई है।

जाम की समस्या का होगा स्थाई समाधान

बाईपास सड़क के अभाव में ही डुमरांव में हर दिन भयंकर जाम लगता है। लेकिन बाईपास का निर्माण हो जाने के बाद इस समस्या का स्थाई समाधान हो जाएगा। बाईपास निर्माण होने से डुमरांव के साथ ही पुराना भोजपुर चौक पर लगने वाले भयंकर जाम से भी मुक्ति मिल जाएगी।

खबरें और भी हैं...